supari killing -बहन ने ह्त्या के लिए 2 लाख रुपए की दी सुपारी -दो दिन पहले मिली अज्ञात लाश को लेकर सनसनी खेज खुलासा

Scn news india

राजेश साबले जिला ब्यूरो 

उज्जैन जिले के थाना माकड़ौन पुलिस ने दो दिन पहले मिली अज्ञात लाश को लेकर सनसनी खेज खुलासा किया है। बैतूल निवासी शराबी भाई से परेशान होकर बहन ने ह्त्या के लिए 2 लाख रुपए की सुपारी दी थी। जिसके बाद उसके चार साथीयों ने मिलकर युवक की हत्या कर दी। बहन अपने भाई की हरकतों से परेशान थी। जिसके चलते बहन ने उज्जैन निवासी अपने प्रेमी के साथ मिलकर हत्या की घटना को अंजाम दिया।
14 अक्टूबर को ग्राम चिरडी के पास तनोडिया रोड पर नाले के समीप एक अज्ञात लाश पुलिस को मिली थी। गांव के चौकीदार की सूचना पर पुलिस ने जब लाश की शिनाख़्त की तो उसकी पहचान बैतूल निवासी आदतन अपराधी प्रशांत उर्फ़ मोनू नाम युवक के रूप में हुई। पुलिस को पता चला की प्रशांत वर्मा पर बैतूल में 8 अपराधों में पंजीबद्ध अपराधी भी रहा है, आये दिन अपने माँ पिता को पैसो के लिए शराब पीकर मारता था, छोटी बहन प्रिया वर्मा जो कि इंदौर में रहकर खुद का व्यापार करती है जब बैतूल जाती तो उसका भाई मोनू उसे भी मारता पैसा मांगता। जिसको लेकर बहन ने एक बार मां पिता के साथ नजदीकी थाने पर FIR दर्ज कारवाई लेकीन वह नहीं सुधरा। इसी कहानी को लेकर पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई तो परते खुलती गई और तीन दिन में पुलिस ने अंधे क़त्ल का खुलासा कर दिया।
बहन ने 2 लाख की सुपारी दी
दो दिन तक पुलिस जांच में जुटी रही पुलिस ने काल डिटेल के आधार पर मृतक के दोस्तों से जानकारी ली तो प्रशांत के दोस्त ने सच उगल दिया। जिसके बाद पुलिस ने मृतक की बहन प्रिया वर्मा को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने पुलिस का बताया कि उसने उज्जैन निवासी माधव नगर अस्पताल में काम करने वाला प्रेमी अखिलेश व बैतूल निवासी मित्रों के साथ योजना बनाई की भाई को रास्ते से हटाना है। 2लाख रु आरोपी बहन प्रिया ने दोस्त के माध्यम से बदमाशो से सौदा तय किया जिसकी एवज में उसने 55 हजार तीन लोगो को दिलवाए।
ऐसे दिया घटना को अंजाम
प्रिया ने पहले अपने प्रेमी अखिलेष पिता भारत सिंह चौहान को अपने ही भाई की हत्या के लिए तैयार किया फिर प्रशांत के दोस्तों छोटू उर्फ़ शरद पिता शोभाराम , दिलीप उर्फ दीपक पिता गुलाब सिंह राजपूत , रिम्पी पिता राजेश सिसोदिया के साथ उसे महाकालेश्वर मंदिर दर्शन करवाने के बहाने उज्जैन लाने के लिए 12 अक्टूम्बर को राजी किया 13 को दर्शन कर मित्रों के साथ शराब पी जब भाई बेसुध हो गया तो उसका फायदा उठाकर उसने उसके गले में एक कट मारा इसके बाद उज्जैन से कुछ दूरी पर जाकर माकड़ोन थाना क्षेत्र में हथियारों से उसकी हत्या कर दी। वहां से पांचों आरोपी फरार हो गए। 14 तारीख को गांव के चौकीदार को लाश मिली पुलिस को उन्होंने सूचना दी जिसके बाद अब 17 तारीख को पुलिस ने खुलासा किया है।

आरोपी बहन प्रिया ने पुछताछ में यह भी बताया कि उसका भाई मां पिता को तो मारता ही था शारब पीकर उससे भी उसकी कमाई मांगता और मारपीट करता था जिससे उसको रास्ते से हटाने की ठान ली थी। जिसके बाद उसने ओस ह्त्या काण्ड को अंजाम दिया