हजरत मोहम्मद सल्ललाहो अलैही वसल्लम की जयंती ईद मिलाद-उन-नबी मनाई गई

Scn news india

फिरदौस खान की रिपोर्ट 

मस्जिद सुभानिया बीजाडांडी में रविवार को अकीदत-मुहब्बत व उत्साह के साथ हजरत मोहम्मद सल्ललाहो अलैही वसल्लम की जयंती ईद मिलाद-उन-नबी मनाई गई । रविवार को जुलूस-ए-मोहम्मदी में आकीदात मंदों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। इसमें अधिक की संख्या में युवा, बच्चे व बुजुर्ग शामिल हुए। जुलूस में अकीदतमंद रसूल की आमद मरहबा, सरकार की आमद मरहबा, रसूल-ए-खुदा की शान अल्लाह-अल्लाह आदि के नारे बुलंद करते हुए आगे बढ़ रहे हैं।जरूरत है इस्लाम के कायदे-कानून पर अमल करने की

उन्होंने कहा कि मुसलमान दहशतगर्द नहीं हो सकता है। हजरत मोहम्मद सल्ललाहो अलैही वसल्लम ने इस्लाम मजहब के माध्यम से विश्व को शांति, भाईचारा व वतन से मुहब्बत का पैगाम दिया है। इस्लाम तलवार से नहीं एखलाक से फैला है। अल्लाह व उसके रसूल पर बताए रास्ते पर चलकर ही दुनिया में अमन की फिजां कायम की जा सकती है। जरूरत है इस्लाम के कायदे-कानून पर अमल करने की। जुलूस ए मोहम्मदी कमेटी बीजाडांडी ने किया संचालन

ईद मिलादुन्नबी के मौके पर गांव में निकाले गए जुलूस-ए-मोहम्मदी का संचालन जुलूस ए मोहम्मदी कमेटी बीजाडांडी ने किया। जुलूस के नेतृत्व में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जुलूस संचालन में पुलिस पदाधिकारियों ने कमेटी का भरपूर सहयोग किया।