रैकिंग पर इतराने वाली नगर पालिका के पड़ोस का सड़ांध मार रहा शौचालय

Scn news india
राजेश साबले जिला ब्यूरो 
 दैनिक क्रिया करना तो दूर शौचालय के पास तक जाने नहीं होती हिम्मत
 जेल की दीवार से सटा शौचालय खोल रहा है सफाई व्यवस्था की पोल
बैतूल। देश में 41 वीं और प्रदेश में 13 वीं रैकिंग प्राप्त करने पर इतराने वाली नगर पालिका बैतूल के अधिकारी-कर्मचारी चंद कदमों की दूरी पर स्थित जेल की दीवार से सटे शौचालय में झांककर देख ले तो हकीकत बयां हो जाएगी। इस शौचालय की हालत यह है कि यहां पर दैनिक क्रिया करना तो दूर इसके पास तक जाने की भी नागरिक हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं।
बैतूल नगर के कोठीबाजार इलाके में गंदगी से पटा पड़ा है शौचालय। गंदगी इतनी अधिक है कि कहा नहीं जा सकता। जबकि वर्तमान में नवरात्र के त्यौहार चल रहे हैं ऐसे में बाजारों में भीड़-भाड़ अधिक होने से लोगों को शौचालय की भी सबसे अधिक आवश्यकता पड़ती है लेकिन सार्वजनिक स्थल पर नगर पालिका शौचालय इस स्थिति में है कि इसका उपयोग ही नहीं किया जा सकता। गंदगी और बदबू से पूरे क्षेत्र का बुरा हाल है। जो भी दैनिक क्रिया करने के लिए जाता है वह दूर से ही अपना काम करके लौट जाता है।
खड़े रहने भी होता है दुश्वार
शौचालय के भीतर जाकर इसका उपयोग लोग इसलिए नहीं कर रहे हैं क्योंकि इतनी अधिक बदबू में दैनिक क्रिया करना तो दूर यहां चंद पल खड़े रहना भी दुश्वार हो जाता है। जबकि देखा जाए तो अत्याधुनिक शौचालय है और इसके आसपास बकायदा पेविंग ब्लाक भी लगा दिए गए हैं ताकि कीचड़ आदि ना हो सके लेकिन इसकी नियमिति रूप से साफ सफाई नहीं होने से इसकी हालत बद से बदत्तर हो गई है और लोग दूर से ही दैनिक क्रिया कर लौट जाते हैं। यही वजह है कि शौचालय के चारों ओर जबदस्त गंदगी फैली हुई है।
नियमित सफाई की मांग
जागरूक नागरिक दिलीप राठौर, दिनेश साहू, मंगल पंवार, लक्ष्मण धुर्वे सहित अन्य का कहना है कि नगर पालिका को मिली रैकिंग पर अधिकारी-कर्मचारी इतने अधिक खुश हो रहे हैं कि कहा नहीं जा सकता। जबकि नगर पालिका से चंद कदमों की दूरी पर ही स्थित यह शौचालय नगर पालिका की सफाई व्यवस्था की पोल खोल रहा है लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। त्यौहार के सीजन में नियमित रूप से शौचालयों की सफाई होना चाहिए ताकि नागरिक सहित दुकानदार इसका उपयोग कर सकें।