गोंडी कोरकू भाषा संरक्षण सलाहकार मण्डल की हुई बैठक श्रीमदभगवद्गीता (गोंडी बोली में) की सप्रेम भेंट

Scn news india

राजेश साबले जिला ब्यूरो 

बैतूल। नर्मदांचल अनुसूचित जनजाति सेवा न्यास भोपाल के तत्वावधान में संचालित गोंडी, कोरकू भाषा संरक्षण सलाहकार मंडल जिला बैतूल की प्रथम बैठक गत दिवस आवासीय विद्यालय भारत भारती में संपन्न हुई।
कार्यक्रम की अध्यक्षता गणपत धुर्वे द्वारा की गई। मुख्य अतिथि बुधपाल सिंह ठाकुर सचिव नर्मदाञ्चल अनुसूचित जनजाति सेवा न्यास भोपाल रहे। जिसमें गोंडी भाषा संरक्षण की दृष्टि से व्यापक विचार- विमर्श कर आगामी योजना बनाई गयी। सभी सदस्यों ने विचार किया कि हम अपने घरों में गोंडी में ही बात करेंगे। गोंडी में लेख लिखने हेतु विषय निर्धारित किए गए तथा यह अपेक्षा की गई कि आगामी बैठक में सभी सदस्य लेख तैयार कर लेकर आएं ताकि गोंडी पत्रिका का प्रकाशन शीघ्र कर सकें। बैठक में नर्मदांचल अनुसूचित जनजाति सेवा न्यास भोपाल के सह सचिव एवं गोंडी भाषा सलाहकार मंडल के संयोजक पूनाजी धुर्वे द्वारा उपस्थित सदस्यों को भेकदास बालादास पेंदाम द्वारा गोंडी बोली में अनुवादित श्रीमदभगवद्गीता सप्रेम भेंट की गई।


बैठक में सलाहकार मंडल के सदस्य गणपत धुर्वे, रेवाराम उइके, सुखबाल मर्सकोले, छोटेलाल धुर्वे रेडियो एंकर आकाशवाणी केंद्र बैतूल, सुनील सरियाम इंजीनियर उपस्थित रहे। इस बैठक में नर्मदाञ्चल अनुसूचित जनजाति सेवा न्यास के सदस्य राजेश वर्टी एवं भाऊराव देवरस सेवा न्यास भोपाल के सदस्य पूरनलाल परते व विद्या भारती जनजाति क्षेत्र की शिक्षा बैतूल के जिला प्रमुख नागोराव सिरसाम, आदर्श ग्राम बाचा के अनिल उईके विशेष रूप से उपस्थित रहे। न्यास के सहसचिव पूनाजी धुर्वे द्वारा कार्यक्रम का संचालन एवं बैठक में उपस्थित सदस्यों का आभार व्यक्त किया गया।