बैतूल पहुंची डीआईडी सुपर मॉम की फर्स्ट रनरअप

Scn news india
राजेश साबले जिला ब्यूरो 
  •  रेलवे स्टेशन पर लोगों ने किया स्वागत, ढोल ढमाकों के साथ जुलूस निकाला
  •  बिना ट्रेनिंग के हासिल किया मुकाम
बैतूल। जी टीवी के प्रसिद्ध डांस शो डांस इंडिया डांस सुपर मॉम में फर्स्ट रनर अप साधना मिश्रा आज बैतूल पहुंची। जहां उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया। बैतूल निवासी साधना इस शो में दूसरे नंबर की प्रतिभागी रही। उन्होंने कहा है की उन्होंने इस शो में जो भी सीखा है, वह हर उस विधा को बैतूल के लोगो को सिखाएगी। शो के लिए बैतूल से जो प्यार मिला उससे वे अभिभूत है। आज जयपुर एक्सप्रेस से बैतूल पहुंची साधना को लेने सैकड़ो लोग रेलवे स्टेशन पहुंचे। जहां ढोल ढमाकों के साथ उनका स्वागत किया गया। इस दौरान रेलवे स्टेशन से साधना के निवास तक जुलूस भी निकाला गया। साधना ने जी-टीवी के जाने माने शो डांस इंडिया डांस सुपर मॉम के फिनाले में दूसरा स्थान प्राप्त कर बैतूल का नाम पूरे देश में रोशन किया है।
उल्लेखनीय है कि साधना मिश्रा का चयन जी टीवी कार्यक्रम डांस इंडिया डांस में तीन माह पूर्व हुआ था। उन्होंने अपनी नृत्य कला की कुशलता से बैतूल का नाम पूरे देश में रौशन किया है। साधना ने इस मौके पर कहा की बिना बैतूल के सपोर्ट के वे यहां तक नही पहुंच पाती, बैतूलवासी ही मेरी ताकत है। मैं बैतूल का नाम रौशन कर पाई। जीत का श्रेय अपने डांस गुरु भारत को देते हुए उन्होंने कहा की अगर भारत नही मिलते तो वह यहां तक नही पहुंच पाती। साधना ने कहा की आगे उनका ध्येय यही है कि जो बैतूल में नहीं था। वे जो सीखकर आई है वह बैतूल को देना चाहती है। आज के बाद बैतूल को सीखने के लिए किसी बाहर वाले का मोहताज नहीं रहना पड़ेगा। डीआईडी सुपर मॉम ने उन्हे बहुत कुछ सिखाया है।
बिना ट्रेनिंग के हासिल किया मुकाम
साधना एक गृहणी है, जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से देश के प्रसिद्ध कार्यक्रम के फिनाले तक पहुंचकर अपना बड़ा मुकाम बनाया है। इसके पहले वे टॉप टेन में पहुंची थी। साधना ने बताया कि अभी तक कि उनकी जर्नी अच्छी रही है। जिस सोच के साथ उन्होंने ऑडिशन दिया था। उसका रिजल्ट सामने है। यहां पर पहली सीढ़ी पर चढ़ने के लिए साधना ने 17 मई को सबसे पहले भोपाल में ऑडिशन दिया था। भोपाल में पहले और दूसरे लेवल का ऑडिशन हुआ था। जिसमें वह 22 मई को सेलेक्ट हुई। यहां से उनका सफर मुंबई के लिए था। जिसके बाद मुंबई में थर्ड लेवल का ऑडिशन दिया गया।
तब वे टीवी राउंड के लिए सिलेक्ट हुई। जोकि 25 मई को आयोजित हुआ था। जहां से वे सीधे मेगा राउंड में आ गई। जो 7 जून को था। पति मुकुंद मिश्रा ने बताया की 7 जून के बाद 16 जून को मेगा राउंड था। जिसमें रेमो, उर्मिला और भाग्यश्री ने टीवी राउंड में उन्हें स्टैंडिंग ओवेशन दिया था। उन्हें कहा गया कि जितने भी टीवी राउंड में मॉम आई है उनमें उन्हे देखकर वे आश्चर्य चकित हैं कि एक अनट्रेंड डांसर जिसने कभी ट्रेनिंग नहीं ली वह इतना अच्छा परफॉर्मेंस कर सकती है।
बैतूल से की स्कूली शिक्षा पूरी
बैतूल की बेटी सुपर मॉम साधना मिश्रा के जीवन से जुड़े कई किस्से है जो उन्होने शेयर किए है साधना मिश्रा का जन्म बैतूल के आचार्य पंडित दिवाकर प्रसाद द्विवेदी के घर हुआ था। जो कि शिक्षा विभाग से सेवा निवृत्त प्रधान पाठक हैं। उनकी बड़ी बेटी साधना मिश्रा का जन्म 20 अगस्त 1982 को जिला अस्पताल बैतूल में हुआ था। जन्म से 12 घंटे पहले ही बैतूल ज्योतिषाचार्य पंडित कान्त दीक्षित ने भविष्यवाणी कर दी थी कि आपके घर में कला में पूर्ण रुचि रखने वाली कन्या रत्न का जन्म सुबह साढ़े पांच होगा। भविष्यवाणी सही निकली ‌साधना का जन्म सुबह 5:32 हुआ। उनकी स्कूली शिक्षा बैतूल में ही पूरी हुई तो वही पर उनकी शादी 18 साल की उम्र में ही हो गई थी 40 वर्षीय साधना के तीन बच्चे है।
बड़ी बेटी सेकंड ईयर की पढ़ाई कर रही है। जबकि उनसे छोटी 12वी और बेटा 7वी क्लास में है। पति मुकुंद एक पेट्रोल पंप पर सेल्स मैनेजर की नौकरी करते है। साधना के सुपर मॉम बनने के ख्वाब के चलते उन्होंने इस नौकरी को छोड़ दिया और वे साधना की रिहर्सल, प्रेक्टिस के लिए मुंबई चले गए। जैसा कि, जब छः सात साल बाद यह सीजन आया तो इसके आडिशन में फिर सिलेक्शन हो गया। मुकुंद ने बताया की साधना ने टॉप 12 में जगह बनाने के बाद जिमनास्ट साइट से अपने डांस में अलग पहचान बनाई है।