कटनी में आजाद अध्यापक संघ के द्वारा जिला कलेक्ट्रेट के बाहर शुरू की गई अनिश्चित हड़ताल

Scn news india

संवाददाता सुनील यादव 

कटनी सहित प्रदेश भर में आजाद अध्यापक संघ के साथ-साथ अध्यापक संघ के द्वारा अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं जिसको लेकर आज कटनी में भी इसका एक नजारा देखने को मिला है जहां पर कटनी जिला इकाई आजाद अध्यापक संघ के द्वारा जिला कलेक्टर के बाहर सैकड़ों शिक्षकों के साथ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे हुए हैं और अपनी मांगों को लेकर अनिश्चित समय तक के लिए हड़ताल पर बैठे रहेंगे आजाद अध्यापक संघ के द्वारा पुरानी पेंशन बहाली के साथ-साथ अन्य मुद्दों को लेकर यह प्रदेश व्यापी आंदोलन किया जा रहा है।

जिसको लेकर आज कटनी में भी यह नजारा देखने को मिला है जहां पर आजाद अध्यापक संघ के जिला अध्यक्ष शैलेंद्र सिंह बघेल के द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि लगातार शिक्षक संघ के साथ छलावा हो रहा है और सरकार के द्वारा शिक्षक संघ की मांगों को पूरा नहीं किया जा रहा है।

जिसे कहीं ना कहीं शिक्षक संघ पूरी तरह से परेशान हो रहा है जिसको लेकर पिछले 13 तारीख से आजाद अध्यापक संघ के द्वारा अपनी मांगों को लेकर विरोध जताया जा रहा है जिसके बाद अब कटनी में भी सैकड़ों शिक्षकों के साथ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर शिक्षक कलेक्ट्रेट कार्यालय के सामने बैठे रहेंगे सरकार के द्वारा शिक्षकों के विषय पर कोई संतोषजनक जवाब जब तक नहीं दिया जाएगा जब तक यह हमारी अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी 2005 के बाद जिन की भी नियुक्ति हुई है उनके लिए एक विशेष संघ भी बनाया जा रहा है यदि मांगों को पूरी नहीं की गई तो उन सभी लोगों को एक साथ मिलाकर प्रदेश व्यापी एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा और इस विरोध को उग्र आंदोलन के रूप में बदल दिया जाएगा वह आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के द्वारा बताया गया कि प्रांतीय आवाहन को लेकर जिला कलेक्ट्रेट के बाहर सैकड़ों की तादात पर शिक्षक मौजूद हैं जिनके द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल की जा रही है और स्कूलों को छोड़कर आप शिक्षक आंदोलन की राह पर आ चुके हैं।

यदि उनकी मांगे सरकार के द्वारा जल्द से जल्द पूरी नहीं की गई तो एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा जिसको लेकर पूरी जानकारी जिम्मेदारों तक पहुंचाई जा चुकी है लेकिन इसके बावजूद भी संतोषजनक जवाब नहीं मिला है जिससे शिक्षक संघ परिवार पूरी तरह से आक्रोश में दिखाई दे रहा है और आगामी दिनों पर यह आंदोलन उग्र होगा जिसकी वजह से लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन इसके बावजूद भी सरकार के द्वारा किसी प्रकार की कोई संतोषजनक बातें नहीं की जा रही है जिससे कि शिक्षकों को उनकी मांगों को पूरा किया जा सके जब तक मांगे पूरी नहीं होगी जब तक यह आंदोलन जारी रहेगा