भाजपा नेता राजा ठाकुर के नेतृत्व में मेंढा जलाशय संघर्ष समिति के साथ हजारों किसानो ने दिखाई ताकत

Scn news india

धनराज साहू तहसील ब्यूरों

मेंढ़ा जलाशय के पानी की मांग तथा अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों के मुआवजे की मांग को लेकर तहसीलदार को सौपा ज्ञापन।

भैंसदेही वि.खं. के अंतर्गत मेंढा जलाशय की ऊंचाई बढ़ाने निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक बुधवार को हजारों किसानों ने भैंसदेही पहुंचकर मेंढा जलाशय संघर्ष समिति के तत्वावधान में आयोजित पूर्व भाजपा राष्ट्रीय परिषद सदस्य व जिला पंचायत सदस्य राजा ठाकुर के कुशल नेतृत्व में ऐतिहासिक रैली निकालकर तहसील कार्यालय पहुंच अनुविभागीय अधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपकर इस मांग को मनवाने के लिए अपने संघर्ष का ऐतिहासिक शंखनाद कर दिया है। बुधवार को दोपहर 12 बजे देखते ही देखते मेंढा जलाशय की ऊंचाई बढाने व जलाशय से क्षेत्र के किसानो को पानी मिलने को लेकर दूर दराज के क्षेत्रों के किसानों का धीरे धीरे उमड़ता जनसैलाब ने स्थानीय उमा लॉन में ऐतिहासिक आमसभा का रूप ले लिया।

मेंढा जलाशय के पानी की मांग व अतिवृष्टि से फसलों की मार को लेकर किसानो ने मेंढा जलाशय संघर्ष समिति की उठाई आवाज को अपनी उपस्थिति देकर शासन के समक्ष गंभीरता से प्रस्तुत किया । विशाल आमसभा को भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय परिषद सदस्य राजा ठाकुर, संघर्ष समिति संरक्षक व भाजपा नेता देवीदास खाड़े,पूर्व मंडी अध्यक्ष प्रमोद महाले,भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा जिलाध्यक्ष सीताराम चडोकार, भाजपा मंडल महामन्त्री केशर लोखंडे,धामनगाव के किसान नेता मोरेश्वर पटेल,पूर्व भाजपा जिला उपाध्यक्ष प्रदीपसिंह किलेदार ने किसानों को सम्बोधित करते हुए मेंढा जलाशय के संघर्ष के लिए किसानो द्वारा दिये गए भरपूर समर्थन के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।

किसानों की सदैव चिंता करने वाले और मेंढा जलाशय की ऊंचाई बढ़ने से भैंसदेही विकासखण्ड की 4500 हेक्टेयर भूमि को सिंचाई के साधन मिलने का कठोर संघर्ष करने वाले भाजपा नेता व जिला पंचायत सदस्य राजा ठाकुर ने कहा कि यह संघर्ष की प्रथम सीढ़ी है एक हजार से अधिक किसानो की उपस्थिति यह दर्शाती है कि मेंढा जलाशय की ऊंचाई बढ़ाना क्षेत्र के गरीब किसानों के लिए कितना आवश्यक है। संघर्ष का क्रमबद्ध चरण मांग पूरी नही होने तक जारी रहेगा।

तत्पश्चात एक किसानों का जनसैलाब उमा लॉन से प्रारम्भ होकर नगर के प्रमुख मार्गों से होता हुआ तहसील कार्यालय पहुंचा जहां हजारों किसानों की मौजूदगी में तहसीलदार नीरज कालमेघ को ज्ञापन सौंप कर शासन को अवगत करवाया कि यदि सौपे ज्ञापन के बाद भी मांग पूरी नही होती है तो 28 सितंबर को झल्लार टप्पा तहसील मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन होगा। उसके बावजूद भी यदि प्रशासन नही सुनेगा तो 7 अक्टूबर को बैतुल में पांच हजार से अधिक किसानों के साथ जिला कलेक्टर कार्यालय पहुंच धरना प्रदर्शन के साथ ज्ञापन सौंपा जाएगा।आज आये किसानो ने अतिवृष्टि से खराब फसल के नुकसान को लेकर अपने अपने आवेदन प्रस्तुत किये,मेंढा जलाशय को लेकर प्रथम चरण में हजारों की संख्या में किसानों का जुड़ना आगामी आंदोलन की व्यापकता को दर्शाता है।