यहाँ भी स्कूली बच्चे रोज नदी पार करने का जोखिम उठा रहे

Scn news india

 

संवाददाता सुनील यादव 

आजादी के सात दशक और प्रदेश में मामाजी की सरकार के तकरीबन 17 साल बाद भी जिस तरह की तस्वीरें लगातार सामने आ रही हैं वह बेहद हैरान करने वाली हैं। ताजा मामला कटनी जिले का है जहां स्कूली बच्चे रोज नदी पार करने का जोखिम उठा रहे हैं ऐसा नही कि इस बात की जानकारी प्रशासन को नही है तमाम जानकारियों के बाद भी प्रशासन किसी तरह का कोई ठोस कदम नही उठा रहा है जिसके चलते कभी भी कोई बड़ी घटना होने की आशंका बनी रहती है – ते तमाम तस्वीरें कटनी जिला के बड़वारा विकास खण्ड के भदौरा नंम्बर 2 गांव की हैं

जहां आज तक सरकार किसी तरह का पहुंच मार्ग नही बना पाई है । खास बात ये कि इसी गांव के लोगों ने पहुंच मार्ग के लिए एक बार वोट का वहिष्कार भी कर दिया था तब जा कर प्रशासन की नींद खुली और ग्रामीणों को इस आश्वासन के साथ मना लिया गया कि जल्द हीं नदी पर पुल बना कर गांव को मुख्य धारा से जोड़ दिया जाएगा , जिसके बाद टेंडर भी निकला और पुल का काम भी शुरू कर दिया गया लेकिन जिस मियाद में यह पुल बन कर तैयार होना था वह वक्त भी गुजर गया और पुल का काम अभी भी अधूरा पड़ा है जिसका खामियाजा इस ईलाके में रहने वाले स्कूली बच्चों को भुगतना पड़ रहा है ये तमाम बच्चे रोज जान जोखिम में डाल कर स्कूल पहुंचते हैं अगर प्रशासन चाहता तो वैकल्पिक व्यवस्था के नाम पर नाव चला कर भी इनको राहत पहुंचा सकता था लेकिन ऐसा कुछ हुआ नही अब आलम ये है कि इनकी तस्वीर सोशल मिडिया पर जम कर वायरल हो रही है लेकिन अभी भी जिला प्रशासन की तरफ़ से किसी तरह की पहल नजर नही आ रही है –