कटनी में देर रात तक चला बप्पा की अंतिम यात्रा का जश्न देर रात तक की गई प्रतिमाओं का विसर्जन

Scn news india

संवाददाता सुनील यादव 
कटनी में प्रथम पूज्य भगवान गणेश के उत्सव की 10 दिनों तक शहर सहित जिले भर में अजब धूम रही। हर दिन-सुबह और शाम गणपति की पूजा-अर्चना व आरती के साथ जयकारों से पंडाल गूंजते रहे। घरों में भी पूजन का दौर चला। कहीं पर धार्मिक तो कहीं पर सांस्कृतिक कार्यक्रमाें की भी धूम रही। इस महामहोत्सव के बाद शुक्रवार को विघ्नहर्ता जयघोष के बीच विदा हुए। सुबह से ही घरों में विराजित प्रतिमाओं के विसर्जन का क्रम नदी घाटों में बनाए गए कृत्रिम कुंडों में होना प्रारंभ हो गया था। शाम को भी समिति लोग प्रतिमाएं लेकर नदी घाट पहुंचे और पूजन कर कल्याण की कामना करते हुए भगवान की प्रतिमा को विसर्जित किया। गणेश चौक में दोपहर को हवन पूजन के बाद कन्या भोज का आयोजन हुआ। शाम को चल समारोह शुरू हुआ। यहां पर विशेष पूजा-अर्चना के साथ जुलूस में संगीत की धुन पर श्रद्धालु नृत्य करते हुए चले। वहीं अलग-अलग क्षेत्र में समितियों के द्वारा विसर्जन किया गया। डीजे, ढोल की धुन पर युवक-युवती, महिलाएं बाबा की विदाई में नाचते-गाते हुए चले। सभी ने गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तुम जल्दी आना, भगत मंडली के द्वारा भी भगताें का गायन किया गया। गणपति विसर्जन के लिए अलग-अलग स्थानों पर पर नगर निगम, पुलिस-प्रशासन द्वारा व्यवस्था की गई थी। शहर के मसुरहा घाट, मोहनघाट, गारघाट में बने कृत्रिम कुंडों में प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। इसके अलावा माईनदी, रपटा, पीरबाबा नदी सहित सुरखी टैंक, पहरुआ तालाब, कटायेघाट, अमीरगंज तालाब आदि में भी विसर्जन किया गया। सुरक्षा को लेकर पुलिस का अमला मुस्तैद रहा। पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार जैन ने के निर्देशन में सीएसपी, डीएसपी, सभी थानों के टीआई, चौकी प्रभारी व स्टॉफ मुस्तैद रहा। इसके अलावा नगर निगम की टीम आयुक्त सत्येंद्र सिंह धाकरे के निर्देशन में डटी रही। राजस्व विभाग का अमला भी मुस्तैद रहा। इसके अलावा होम गार्ड के जवान भी डिप्टी कमांडेंट राजेश शर्मा के निर्देशन में तैनात रहे।
नगर रक्षा समिति, बारडोली उत्सव समिति सहित अन्य अखाड़ों के युवाओं ने विसर्जन में सहयोग किया। देर रात तक चलता रहा बप्पा की अंतिम विदाई का जश्न लोगों के द्वारा धूमधाम से बप्पा को दी गई विदाई।