सिद्धा पहाड़ मामले में सरकार की कार्यवाही पर्याप्त नहीं। जन विरोध न होता तो सरकार भगवान राम के प्रतिज्ञा स्थल को नष्ट कर देती – अजयसिंह

Scn news india


दिवाकर पांडेय 
मप्र विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने भगवान राम के प्रतिज्ञा स्थल सिद्धा पहाड़ की तीन खदानों की निरस्त हुई कार्यवाही को अपर्याप्त बताते हुए कहा है कि अगर सरकार की भगवान राम के प्रति वास्तव में आस्था है तो उसे उक्त क्षेत्र की सम्पूर्ण खदानों को बन्द कराकर अवैध उत्खनन रोकना चाहिए | इसके साथ ही सम्पूर्ण क्षेत्र को पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित करना चाहिए |
अजय सिंह ने जारी बयान में दावा करते हुए कहा कि अगर यह मामला सुर्ख़ियों में नहीं आता और जनविरोध न होता तो प्रदेश सरकार भगवान राम के इस प्रतिज्ञा स्थल में लीज आवंटित कर उसे नष्ट कर देती | अजय सिंह ने कहा कि सरकार को उन नामों का खुलासा करना चाहिए कि उक्त पवित्र तीर्थ स्थल के साथ साथ रामपथ गमन क्षेत्र में किन्हें किन्हें लीज आवंटित की गयीं और किस आधार पर की गयीं| उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि इतने पवित्र तीर्थ स्थल के ऐतिहासिक महत्व से सरकार आखिर अनजान कैसे बनी रही|
सिंह ने अपने आरोप में कहा है कि भाजपा नेताओं के संरक्षण में सम्पूर्ण रामपथ गमन क्षेत्र में अवैध उत्खनन कर उसे नष्ट किया जा रहा है| उन्होंने कहा सरभंगा, कारीगोही, देउरा, बरहा, लेदरा, सेलहा जैसे गांव जो रामपथ गमन के हिस्सा हैं वहाँ प्रतिदिन बड़ी मात्रा में अवैध उत्खनन कर उसे नष्ट किया जा रहा है| उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री से कहा है कि भगवान राम की तपोभूमि को बचाने के लिए अगर सरकार गंभीर है तो अवैध उत्खनन के खिलाफ बड़ी कार्यवाही करनी चाहिए |