MP Weather Alert : – नौ-दस सितंबर को मध्‍य प्रदेश में अच्छी वर्षा होने के बन रहे आसार

Scn news india
 केंद्रीय बंगाल की खाड़ी में बन रहा कम दबाव का क्षेत्र, जिसके असर से होगी वर्षा
MP Weather Alert: भाेपाल । एक निम्न दबाव का क्षेत्र सात सितंबर को केंद्रीय बंगाल की खाड़ी में बनता दिखाई दे रहा है। पहले वह उत्तर-पश्चिम की तरफ रुख करते हुए उड़ीसा के तटों की ओर जाएगा।तटों पर पहुंचने के बाद वो पश्चिम दिशा की ओर रुख करेगा और विदर्भ, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश के ऊपर से गुजरेगा। इसके असर से नौ व 10 सितंबर को पूर्वी मध्य प्रदेश के जबलपुर व शहडोल संभाग के जिलों में अच्छी वर्षा होने की संभावना है।
वहीं 10 सितंबर के आसपास इंदौर, उज्जैन, भोपाल संभाग में गरज-चमक के साथ झमाझम वर्षा हो सकती है। विज्ञानियों का कहना है कि इस निम्न दबाव के क्षेत्र के असर से इंदौर, धार, देवास, खरगोन, बड़वानी के इलाकों में अधिक वर्षा होने के आसार हैं। इन क्षेत्रों के लिए विभाग आरेंज अलर्ट भी जारी कर सकता है।
छह को भी प्रदेश के विभिन्न जिलों में होगी झमाझम
वरिष्ठ मौसम विज्ञानी डा. ममता यादव ने बताया कि वर्तमान समय में मानसून द्रोणिका हिमालय की तराई पर है। हालांकि इसका असर मध्यप्रदेश पर नहीं पड़ रहा है। दक्षिण-पूर्वी मध्य प्रदेश से लेकर तमिलनाडु तक एक अन्य द्रोणिका बनी हुई है, जिसकी वजह से प्रदेश के विभिन्न इलाकों में रुक-रुककर वर्षा हो रही है।
इसी की वजह से सोमवार को सुबह 8.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक नरसिंहपुर में 29, नर्मदापुरम में 13, सिवनी व सागर में दो, इंदौर में 1.3, शिवपुरी में एक मिमी वर्षा दर्ज की गई। वहीं छह सितंबर को रीवा, शहडोल, जबलपुर, सागर, नर्मदापुरम, भोपाल एवं इंदौर संभाग के जिलों में तथा रतलाम, देवास, उज्जैन, शाजापुर एवं आगर जिलों में बिजली कड़कने के साथ वर्षा होने के आसार हैं।
मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इस सीजन में सोमवार सुबह साढ़े आठ बजे तक मप्र में 988.5 मिमी. वर्षा हाे चुकी है, जाे सामान्य वर्षा (823.9 मिमी.) की तुलना में 20 प्रतिशत अधिक है। पूर्वी मध्य प्रदेश में औसत से सात प्रतिशत अधिक तो पश्चिमी मध्य प्रदेश में औसत से 32 प्रतिशत अधिक वर्षा हो चुकी है।