शिक्षक का कार्य विद्यार्थी की अन्तर्निहित शक्तियों का जागरण हैं – सांसद डी. डी. उइके

Scn news india
मनोहर
 शिक्षक दिवस पर भारत भारती में आचार्य सम्मान समारोह आयोजित
 40 से अधिक शिक्षकों का किया सम्मान
भारत भारती। देश के पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्मदिवस 5 सितम्बर शिक्षक दिवस भारत भारती विद्यालय में आचार्य सम्मान समारोह के रूप में मनाया गया। जहाँ क्षेत्रीय सांसद दुर्गादास उइके, विद्या भारती जनजाति शिक्षा के राष्ट्रीय सह संयोजक बुधपाल सिंह ठाकुर, भारत भारती के सचिव मोहन नागर ने विद्यालय के आचार्य और दीदीयों को उपहार देकर सम्मानित किया।
कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों ने डॉ. राधाकृष्णन के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया । इस अवसर पर 40 से अधिक शिक्षकों का सम्मान किया गया। शिक्षकों व विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए सांसद श्री डी. डी. ने कहा कि डॉ. राधाकृष्णन जी भारतीय संस्कृति के गहन अध्येता और दार्शनिक थे। उन्होंने अपने जन्मदिन को शिक्षकों को समर्पित किया। भारतीय वांग्मय और दर्शन को लेकर उन्होंने देश-विदेश में अनेक व्याख्यान दिये। वे अपने विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ भारतीय ज्ञान-विज्ञान से भी परिचय कराते थे। श्री उइके ने कहा कि विद्यार्थियों की अन्तर्निहित शक्तियों का जागरण करना ही वास्तव में शिक्षक का मुख्य कार्य है। उन्होंने शिक्षक दिवस के अवसर पर सभी शिक्षकों को शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम का संचालन छात्र अमन सेमरे ने किया तथा आभार प्राचार्य गोविन्द कारपेन्टर ने माना।