महाराजा वेंकटरमन की प्रतिमा से तोड़ ले गए तलवार, रीवा में चोरों के हौसले बुलंद

Scn news india

कामता तिवारी
संभागीय ब्यूरो रीवा
Scn news india

रीवा-महाराजा व्यंकटरमण सिंह के तलवार के कुछ हिस्सो को तोड़कर ले जाने की जानकारी उस समय मिली जब स्थानीय लोगों की नजर मूर्ति पर पड़ी। महाराजा की घोड़े के साथ यह प्रतिमा बहुमूल्य है। रीवा में चोरों ने स्टेचू चौराहे पर शहनाज घोड़े के साथ लगी महाराजा वेंकटरमन सिंह की प्रतिमा से तलवार का आधा हिस्सा चोरी कर लिया। चोरों ने घोड़े की लगाम तोड़ने की भी कोशिश की लेकिन वो तोड़ न सके।
रीवा के सिविल लाइन थाना क्षेत्र अंतर्गत घोड़ा चौराहे में काफी वर्ष पुरानी और कीमती महाराज व्यंकट रमण सिंह की प्रतिमा पर अब चोरों की नजर है। मूर्ति के साथ लटक रही तलवार का आधा हिस्सा अज्ञात चोरों ने चोरी कर लिया है।चोरों ने चोरी की इस वारदात को अंजाम देकर कीमती धरोहर को नुकसान पहुंचाया है वहीं कानून व्यवस्था का मजाक बनाते हुए पुलिस को खुली चुनौती दे डाली। जिस जगह पर यह मूर्ति लगी है उस इलाके में देर रात भी लोगों का आना जाना रहता है और वहां पर पुलिस की गश्त भी रहती है। मूर्ति भी काफी ऊंचाई पर है।
महाराजा व्यंकटरमण सिंह के तलवार के कुछ हिस्सो को तोड़कर ले जाने की जानकारी उस समय मिली जब स्थानीय लोगों की नजर मूर्ति पर पड़ी। महाराजा की घोड़े के साथ यह प्रतिमा बहुमूल्य है। उसके बाद भी इसकी सुरक्षा व्यवस्था के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं।
शहर के हृदय स्थल घोड़ा चौराहे में महाराजा व्यंकटरमण सिंह के सबसे चहेते शहनाज घोड़े के साथ प्रतिमा 1931 में स्थापित कराई गई थी। इसका वजन साढ़े सात टन है जिसे इंग्लैंड से मंगाकर यहां पर लगवाया गया था। महाराजा व्यंकटरमण सिंह का शहनाज घोड़ा काफी चहेता था और वो महाराज का काफी वफादार था यही वजह है की महराज उसे काफी प्यार करते थे।