बठिया में दो आदिवासी मासूमों की मौत पर रामनिवास उरमलिया ने पीड़ित परिवार को दिलाई चार चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता

Scn news india

दिवाकर पांडेय 

मैहर। तहसीलांतर्गत बठिया गांव में दो आदिवासी बच्चों की गत दिनों हुई असामयिक मौत पर वरिष्ठ समाजसेवी रामनिवास उरमलिया यह गंभीरतापूर्वक लेते हुए प्रशासन को साथ लेकर पीड़ित परिवार को चार चार लाख रुपए की प्रशासनिक मदद दिलाने में सराहनीय भूमिका निभाई।
प्राप्त खबर के मुताबिक ग्राम बठिया के आदिवासी समाज में एक ही परिवार के दो मासूम बच्चों का स्वास्थ्य अचानक खराब हुआ। परिवार के लोग आनन-फानन सिविल हॉस्पिटल मैहर लेकर पहुंचे तब तक उन दोनों मासूमों की मौत हो चुकी थी। लिहाजा दोनों शव पोस्टमार्टम कर परिजनों के सुपुर्द कर दिए गए लेकिन मौत के कारण की चिकित्सकीय पुष्टि प्राप्त किए बिना परिजन और ग्रामीण जन दोनों शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए राजी नहीं थे।
पीड़ित परिजनों द्वारा इस आशय की खबर दिल्ली प्रवास पर गए वरिष्ठ कांग्रेस नेता रामनिवास उरमलिया को दी गई।

श्री उरमलिया ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जहां प्रशासनिक अधिकारियों से मौत के कारण की पोस्टमार्टम के आधार पर अधिकारिक पुष्टि किए जाने की बात की वहीं पीड़ित परिजनों को सांत्वना और समझाइश देने हेतु अपने छोटे भाई जिला पंचायत सदस्य श्रीधर उरमलिया एवं विष्णुधर उरमलिया को मौके पर पहुंचने को कहा।
उधर मौके पर प्रशासन की तरफ से नायब तहसीलदार श्री त्रिपाठी भी पहुंचे तथा दोनो मासूमों पर पीड़ित परिवार को चार चार लाख रूपए की आर्थिक मदत दिए जाने का आश्वासन दिया तब जाकर कहीं परिजन संतुष्ट हुए और दोनों शवों का अंतिम संस्कार किया ।