10 जिलों और 7 संभागों में बारिश की चेतावनी

Scn news india
  • 10 जिलों और 7 संभागों में बारिश की चेतावनी
  • मौसम विभाग का पूर्वानुमान
  • आज बुधवार 31 अगस्त को सभी संभागों में गरज चमक के साथ बारिश की संभावना है।
  • छिंदवाड़ा, बैतूल, धार, खरगोन और बड़वानी में भारी बारिश की चेतावनी जारी करते हुए येलो अलर्ट जारी किया गया है।
  • मध्य प्रदेश के मौसम में बदलाव का दौर जारी है।
तमिलनाडु पर हवा के ऊपरी भाग में बने चक्रवात एवं तमिलनाडु से लेकर विदर्भ होते हुए मध्य प्रदेश के मध्य भाग तक बनी द्रोणिका लाइन के कारण बंगाल की खाड़ी से नमी मिल रही है और प्रदेश के कई जिलों में रुक रुककर बारिश हो रही है।
एमपी मौसम विभाग ने आज बुधवार 31 अगस्त 2022 को सभी संभागों में गरज चमक के साथ बारिश की चेतावनी जारी की है।
वही 5 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है, वही 20 जिलों में बिजली गिरने की चेतावनी जारी की है।
बारिश की चेतावनी जारी की गई है
एमपी मौसम विभाग ने आज बुधवार 31 अगस्त को सभी संभागों में गरज चमक के साथ बारिश की संभावना है।
छिंदवाड़ा, बैतूल, धार, खरगोन और बड़वानी में भारी बारिश की चेतावनी जारी करते हुए येलो अलर्ट जारी किया गया है।
वही इंदौर, जबलपुर, भोपाल, रीवा, शहडोल,नर्मदापुरम और सागर संभाग के साथ आगर, देवास, शाजापुर, रतलाम और उज्जैन में अनेक स्थानों पर और ग्वालियर और चंबल संभाग के साथ मंदसौर और नीमच में कुछ स्थानों पर गरज चमक के साथ बारिश की चेतावनी जारी की गई है।
वही जबलपुर और इंदौर संभाग के साथ हरदा, रतलाम, उज्जैन और देवास में बिजली गिरने और चमकने की चेतावनी जारी की गई है।
भारी बारिश की संभावना
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, बुधवार को प्रदेश में इंदौर, शहडोल, रीवा, जबलपुर, सागर, नर्मदापुरम एवं भोपाल संभाग के जिलों में हल्की बूंदाबांदी होने की संभावना जताई गई है।
वहीं राजगढ़, सीहोर, शाजापुर, देवास और भोपाल संभाग के जिलों तथा श्योपुरकला, बेतूल, ग्वालियर, शिवपुरी, छिंदवाड़ा, जबलपुर, सागर, शाजापुर, दमोह, देवास, नरसिंहपुर ,जबलपुर, सिवनी, कटनी, नर्मदापुरम जिलों में भारी बारिश की संभावना है।
इंदौर, भाेपाल, नर्मदापुरम, जबलपुर, ग्वालियर संभागाें के जिलाें में कहीं–कहीं वर्षा हाेने का सिलसिला बुधवार–गुरुवार काे भी बना रह सकता है।
इतनी हुई बारिश
बता दे कि अब तक प्रदेश में सामान्य तौर पर करीब साढ़े 12 इंच बारिश होना चाहिए थी, जबकि 17 इंच बारिश हो चुकी है। यह सामान्य से 4 इंच से भी ज्यादा है।
मध्यप्रदेश में 1 जून से 31 अगस्त तक करीब 31 इंच बारिश होना चाहिए थी, लेकिन 38 इंच पानी गिर चुका है। यह सामान्य से 23% ज्यादा यानी 7 इंच ज्यादा पानी बरस चुका है।
अभी हाल-फिलहाल कोई सिस्टम नहीं बन रहा है। सितंबर में दो से तीन सिस्टम बनने की उम्मीद है।