उग्रवादियों के साथ भीषण मुठभेड़ में सीमा सुरक्षा बल (BSF) के एक जवान शहीद

Scn news india

योगेश चौरसिया की रिपोर्ट 

उत्तरी त्रिपुरा के कंचनपुर में भारत-बांग्लादेश सीमा पर एनएलएफटी (नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा) के संदिग्ध उग्रवादियों के साथ हुई भीषण मुठभेड़ में सीमा सुरक्षा बल (BSF) के एक जवान शहीद हो गया। मुठभेड़ में गंभीर रूप से घायल हुए जवान को अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।


शहीद हुए जवान BSF की 145वीं बटालियन के हवलदार ग्रिजेश कुमार उद्दे (53) थे जो कि मंडला जिले के ग्राम चरगाव माल,विकासखंड बीजाडांडी के रहने वाले थे।बताया जा रहा हैं कि जब BSF की टीम कंचनपुर अनुमंडल के सीमा-II चौकी इलाके में एक अभियान पर थी, तभी बांग्लादेश की तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई। “भारी हथियारों से लैस उग्रवादियों ने बांग्लादेश के रंगमती पर्वतीय जिले के जुपुई इलाके से BSF जवानों पर गोलियां चलाईं। जवानों ने जवाबी कार्रवाई की, जिससे दोनों पक्षों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। मुठभेड़ के दौरान BSF के जवान ग्रिजेश को चार गोलियां लगीं थी।

ग्रिजेश कुमार के शहीद होने की खबर जैसे ही परिवार वालों को लगी तो परिजनों सहित पूरा गाँव शोक की लहर मे डूब गया। ग्रिजेश कुमार के परिवार मे चार भाई और तीन बहन थे। सबसे बड़े भाई राजेंद्र कुमार गन कैरिज फैक्ट्री से रिटायर हुए थे। वही दूसरे नंबर के भाई रवि कुमार डिंडोरी में प्रिंसिपल थे। तीसरे नंबर के भाई शहीद ग्रिजेश कुमार थे जिन्हें शुरू से ही शौक था कि वह सेना में जाकर देश की सेवा करें। ग्रिजेश से छोटे भाई लक्ष्मण सिंह ऑडनेंस फैक्ट्री खमरिया में स्टोर कीपर के पद पर पदस्थ हैं।

 

ग्रिजेश कुमार के घर मे पत्नी के अलावा उनके दो बेटे और एक बेटी हैं। सबसे बड़ी बेटी चन्द्रिका जबलपुर से बी.ए कर चुकी है। 15 दिन पहले ग्राम जमुनिया मे उसकी अतिथि शिक्षक में जॉब लगी थी। बड़ा बेटा विक्की बी.एस.सी फाइनल कर रहा हैं,छोटा बेटा रिंकू बी.कॉम सेकंड ईयर में है। तीन-चार दिनों से परिवार वालों से ग्रिजेश की बात नहीं हो पा रही थी। लगातार फोन लगाने के बाद भी जब बात नहीं हों पाई तो परिवार वालों की चिंता बढ़ गई, और आखिरकार वही हुआ जिसका डर था। शुक्रवार की दोपहर को परिवार वालों के पास सूचना आई कि दुश्मनों से लड़ते हुए ग्रिजेश शहीद हो गए। परिजनों ने बताया कि करीब 5 दिन पहले जब उनसे आखरी बार बात हुई थी तब वह कह रहे थे कि बच्ची की शादी करनी है तैयारी शुरू कर दे।
परिवार बिटिया के लिए वर देखने की तैयारी भी शुरू कर दी थी। शहीद ग्रिजेश कुछ दिनों से कह रहे थे कि बिटिया की शादी करना आप लोग तैयारी करें। परिजनों को उन्होंने बताया था कि बॉर्डर की स्थिति अच्छी नहीं है। फिर भी पहले करूंगा देश की सेवा करूंगा और फिर शान से करूंगा बिटिया की शादी।

शहीद ग्रिजेश के बड़े भाई राजेंद्र की पत्नी के निधन होने पर वह एक माह की छुट्टी लेकर गांव आए हुए थे। गांव मे ही उन्होंने मकान बनवाया था। कुछ माह पहले ही नए मकान का उद्घाटन भी हुआ था हालाँकि उस समय वह बार्डर मे तैनात थे। मकान बन जाने और बिटिया चन्द्रिका की अतिथि शिक्षक में नौकरी लग जाने से शहीद गिरिजेश बहुत ही खुश थे। बस उनका एक अरमान था अपनी बिटिया की शादी जल्दी से जल्दी कर दे जिसके लिए उन्होंने तैयारी भी शुरू कर दी थी।

परिजनों का आरोप हैं कि आदिवासी बाहुल्य इलाके में रहने वाले शहीद ग्रिजेश कुमार के परिवार वालों से मिलने 36 घंटे बीत जाने के बाद भी कोई भी प्रशासनिक अधिकारी या फिर जन प्रतिनिधि नहीं आया। परिजनों का कहना था कि यही अगर बड़े शहर में घटना होती तो अब तक कई मंत्री अधिकारी पहुंच चुके होते। सिर्फ मंडला एसपी,एएसपी सहित नायब तहसीलदार आज दोपहर को शहीद के गांव पहुंचे हैं।

बाइट-1- फग्गनसिंह कुलस्ते केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री भारत सरकार

बाइट-2- अशोक मर्सकोले निवास विधायक