जान जोख़िम में डालकर बेजुबान वन्य प्राणियों को बचाने वाले तफ़्सील हुए सम्मानित

Scn news india

मोहम्मद आज़ाद 

  • जान जोख़िम में डालकर बेजुबान वन्य प्राणियों को बचाने वाले तफ़्सील हुए सम्मानित
  • पन्ना टाइगर रिजर्व प्रबंधन ने उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रदान किया प्रशस्ति पत्र
  • इंसानों को विषधरों से बचाने का भी करते हैं काम

 

पन्ना। अपनी जान जोखिम में डालकर संकटग्रस्त बेजुबान वन्य जीवों की जान बचाने वाले रेस्क्यू टीम के सदस्य तफ़्सील खान को पन्ना टाइगर रिजर्व प्रबंधन ने सम्मानित किया है। आज़ादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य पर स्वतंत्रता दिवस के गरिमामयी समारोह में डॉ. उत्तम कुमार शर्मा, क्षेत्र संचालक पन्ना टाइगर रिजर्व एवं रिपुदमन सिंह भदौरिया, उप संचालक के द्वारा तफ्सील खान को वन्य प्राणी से संबंधित उनके उत्कृष्ट और अनुकरणीय कार्य के लिए सहर्ष प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। टाइगर रिजर्व प्रबंधन ने तफ़्सील के उज्जवल की कामना की है, साथ ही यह आशा व्यक्त की, भविष्य में भी वे इसी तरह सराहनीय कार्य करते रहेंगे।
उल्लेखनीय है कि, पन्ना टाइगर रिजर्व के योग्य एवं अनुभवी वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ. संजीव गुप्ता के कुशल नेतृत्व वाली रेस्क्यू टीम की ख्याति प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर है। इस रेस्क्यू टीम ने मध्यप्रदेश और दूसरे प्रदेशों में अनेकों बार संकटग्रस्त वन्य जीवों के बेहद मुश्किल तथा चुनौतीपूर्ण रेस्क्यू ऑपरेशन को सफलता पूर्वक अंजाम देते हुए बेजुबानों की जान बचाकर अपनी दक्षता व श्रेष्टता को साबित किया है। पन्ना टाइगर रिजर्व की रेस्क्यू टीम में डॉक्टर गुप्ता के बाद युवा तफ्सील खान को टीम का सबसे महत्वपूर्ण सदस्य माना जाता है। क्योंकि, टाइगर, हाथी, तेंदुआ, भालू आदि वन्यजीवों के रेस्क्यू ऑपरेशन में उनकी सराहनीय भूमिका और कार्य कुशलता को पार्क प्रबंधन के अलावा आमजन ने अनेकों बार नज़दीक से देखा है।

बताते चलें कि, तफ़्सील मुश्किल में फंसे वन्य जीवों की जान बचाने के अलावा ड्यूटी के बाद इंसानों को विषधरों (जहरीले जीवों) मसलन, सांप, गुहेरे, बिच्छू आदि से बचाने का काम काफी छोटी उम्र से पूर्णतः निःशुल्क कर रहे हैं। जब कभी किसी के घर या व्यवसायिक प्रतिष्ठान में कोई जहरीला जीव निकलता है और वह तफ्सील से मदद मांगता है, तो उसे निराश नहीं होना पड़ता है। पीटीआर की रेस्क्यू टीम का यह जांबाज युवा तत्परता से मौके पर पहुंचकर विषधर को सुरक्षित तरीके से पकड़ने के बाद उसे जंगल में छोड़ देता है। अपनी इस समाज सेवा के जरिए तफ्सील खान इंसानों व ज़हरीले जीवों दोनों के जीवन को बचाने का सरहनीय और साहसिक कार्य लगभग दो दशक से कर रहे हैं। फलस्वरूप, पन्ना टाइगर रिजर्व प्रबंधन के द्वारा तफ्सील खान को सम्मानित किये जाने की खबर आने के बाद से पार्क के अधिकारियों-कर्मचारियों तथा पन्ना के नागरिकों ने हृदय से प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्हें बधाई दी है।