मध्यप्रदेश भोपाल MP Weather: 6 वेदर सिस्टम एक्टिव, 19 जिलों में गरज चमक के…

Scn news india
MP Weather: 6 वेदर सिस्टम एक्टिव, 19 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश का अलर्ट, जानें अपने जिले का हाल
आज शुक्रवार 12 अगस्त 2022 को 19 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। वही 6 संभागों और 4 जिलों में बिजली गिरने और चमकने का भी येलो अलर्ट जारी किया गया है। प्रदेश में 18 अगस्त तक लगातार वर्षा का दौर जारी रहेगा।
भोपाल। मध्य प्रदेश में मानसून के साथ 6 वेदर सिस्टम एक्टिव है, जिसके चलते प्रदेशभर में बारिश का दौर जारी है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज शुक्रवार 12 अगस्त 2022 को 19 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। वही 6 संभागों और 4 जिलों में बिजली गिरने और चमकने का भी येलो अलर्ट जारी किया गया है। प्रदेश में 18 अगस्त तक लगातार वर्षा का दौर जारी रहेगा।शनिवार 13 अगस्त को नया सिस्टम एक्टिव होगा, जिसके बाद बारिश की गतिविधियों में तेजी आएगी।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज शुक्रवार 12 अगस्त 6 संभागों के साथ 19 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।शहडोल, जबलपुर, सागर, रीवा, चंबल और ग्वालियर संभागों में अधिकांश स्थानों और इंदौर, भोपाल, उज्जैन और नर्मदापुर संभाग में अनेक स्थानों गरज चमक के साथ बारिश की संभावना जताई गई है। वही रीवा-चंबल संभाग के साथ अनूपपुर, डिंडौरी, बालाघाट, पन्ना, धार, टीकमगढ़,नीमच, मंदसौर, राजगढ़, शिवपुरी, ग्वालियर और दतिया जिलों में भारी बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है।वही भोपाल, नर्मदापुरम, रीवा, सागर, चंबल और ग्वालियर संभागों के साथ अनूपपुर, डिंडौरी, नीमच और मंदसौर में बिजली गिरने और चमकने को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है।
मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 6 वेदर सिस्टम एक्टिव है। दो दिन से सक्रिय कम दबाव का क्षेत्र वर्तमान में कमजोर पड़कर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बन गया है, जो भोपाल पर बने शियर जोन (पूर्वी–पश्चिमी हवाओं का टकराव) से संबद्ध हो गया है। सौराष्ट्र पर गहरा कम दबाव का क्षेत्र के साथ मानसून ट्रफ सौराष्ट्र पर बनी मौसम प्रणाली से लेकर अहमदाबाद, गुना, सतना, झारखंड से होता हुआ बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। वही बंगाल की खाड़ी में हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात वर्तमान में पश्चिम बंगाल पर सक्रिय हो गया है। गुजरात के तट से लेकर केरल के तट तक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। अलग-अलग स्थानों पर बनी इन 6 मौसम प्रणालियों के कारण मप्र के अधिकतर जिलों में झमाझम बारिश का सिलसिला जारी है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, शुक्रवार से रीवा, शहडोल, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में भारी बारिश होने के आसार हैं। बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात से पूर्वी मप्र में शुक्रवार से बारिश की गतिविधियों में तेजी आएगी।15 अगस्त से बंगाल की खाड़ी में एक और सिस्टम बन सकता है, जिससे अगस्त के तीसरे हफ्ते तक बारिश देखने को मिल सकती है।14 से 16 अगस्त तक इंदौर में भारी बारिश होने की संभावना है। शनिवार को कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित होने की संभावना है। ऐसे में प्रदेश में 18 अगस्त तक लगातार वर्षा का दौर जारी रहेगा।
अबतक की जिलेवार अपडेट
डिंडौरी जिले के करंजिया, बजाग जनपद क्षेत्र में गुरुवार को तेज बारिश से नदी नाले उफान पर आ गए है।
गोपालपुर के पास सिवनी नदी का जलस्तर बढ़ने से झनकी, गोपालपुर मार्ग बंद हो गया और दर्जनों गांव का संपर्क टूट गया ।
धार में भरुडपुरा और कोठीदा के बीच कारम नदी पर बनाए जा रहे डैम से पानी का रिसाव।
बांध के एक तरफ की मिट्‌टी बहने से डैम वॉल का बड़ा हिस्सा ढहा। प्रशासन अब आसपास के घरों को खाली करवा रहा है।
आगरा-मुंबई नेशनल हाईवे-3 (AB रोड) बंद ।कोठीदा, भारुडपुरा, इमलीपुरा, भांडाखो, दुगनी, डेहरिया, सिमराली, सिरसोदिया, डहीवर, लसनगांव व हनुमंतिया जैसे गांवों में प्रशासन की टीम तैनात है।
नर्मदा, शिप्रा, बेतवा, ताप्ती खतरे के निशान पर।ओंकारेश्वर-हलाली डैम ओवरफ्लो । तवा और इंदिरा सागर बांध के गेट खोले।
नर्मदापुरम, खंडवा, बैतूल, रायसेन, हरदा और धार के कई इलाकों में नर्मदा खतरे के निशान के करीब है। नदी किनारे रहने वालों को अलर्ट जारी ।
भोपाल में कलियासोत डैम का दूसरा गेट खोला।बुरहानपुर में ताप्ती खतरे के निशान से ऊपर।नर्मदा, शिप्रा, कालीसिंध सहित सभी नदियां उफान पर
कहां कितनी बारिश
26 जिलों में सामान्य से कम बारिश ।
निमाड़ और भोपाल-नर्मदापुरम बेल्ट के सभी जिलों में सामान्य से ज्यादा बारिश ।
मालवा में भी 11 में से 9 जिलों में सामान्य या उससे ज्यादा बारिश।
सागर-बुंदेलखंड और विंध्य महाकौशल बारिश में पिछडा।
दमोह में तो सामान्य से आधी ही बारिश।मालवा के जिलों में सबसे कम बारिश राजस्थान-गुजरात से सटे जिलों में रिकॉर्ड । सबसे ज्यादा सूखा अलीराजपुर है। यहां अब तक 66% ही बारिश हुई है।
रतलाम, धार, मंदसौर में 90% से ज्यादा बारिश हो चुकी है। सबसे ज्यादा 155% बारिश देवास में हुई है। इसके बाद शाजापुर में 124% बारिश दर्ज की गई है।
पिछले 24 घंटे बारिश का रिकॉर्ड
पिछले 24 घंटों के दौरान शुक्रवार सुबह साढ़े आठ बजे तक मलाजखंड में 74.2, गुना में 68, दमोह में 52, भोपाल (शहर), रायसेन में 36.2, भोपाल (एयरपोर्ट में) 29.2, जबलपुर में 26.2, उमरिया में 17.2, नर्मदापुरम में 17.2, उज्जैन में 14.6, पचमढ़ी में 13, सिवनी में 11.4, नरसिंहपुर में 11, खजुराहो में 10, सागर में 9.6, ग्वालियर में सात, मंडला में 6.4, शिवपुरी में छह, रतलाम में पांच, रीवा में 4.4, सतना में 3.1, सीधी में 2.4, नौगांव में एक मिलीमीटर वर्षा हुई।