धागों का नहीं विश्वास का पर्व है रक्षाबंधन बैतूल में दौड़ेगी अटल वाहिनी एक्सप्रेस

Scn news india

राजेश साबले जिला ब्यूरो 

  • धागों का नहीं विश्वास का पर्व है रक्षाबंधन
  •  बैतूल में दौड़ेगी अटल वाहिनी एक्सप्रेस
  •  अटल सेना ने मनाया रक्षा बंधन पर्व
बैतूल। प्रतिवर्षानुसर इस वर्ष भी अटल सेना बैतूल के तत्वावधान में रक्षाबंधन पर्व श्रीराधा कृष्ण धर्मशाला में धूमधाम से मनाया गया। जहां सैकड़ों महिलाओं ने संगठन के प्रांताध्यक्ष केन्डु बाबा को रक्षा सूत्र बांधकर लंबी उम्र की कामना का आर्शीवाद दिया। अटल सेना द्वारा निरंतर 23 वर्ष से यह अनूठा आयोजन किया जाता रहा है जो अपने आप में एक मिसाल है। इस मौके पर राजेन्द्र सिंह चौहान (केन्डु बाबा) ने बताया कि कार्यक्रम के माध्यम से समाज को एक नई दिशा और संदेश देना है कि महिलाएं किसी से कम नहीं हैं और महिलाओं को स्वरोजगार के क्षेत्र में आगे आना चाहिए।
बैतूल में दौड़ेगी अटल वाहिनी एक्सप्रेस
अपने स्वयं के रोजगार स्थापित करने के संबंध में अटल सेना के सुझाव पर मीरा पवांर अब ऑटो संचालिका बन गई हैं। ऑटो का नाम अटल वाहिनी एक्सप्रेस के नाम से जाना जाएगा। ऑटो के क्रय करने के लिए बाकायदा अटल सेना द्वारा उनकी लोन दिलवाने में सहायता की गई। श्रीमती मीरा पंवार ने कहा काम कोई छोटा बड़ा नहीं होता पहले मैं स्कूल में खाना बनाने का काम करती थी समूह चलाती थी आज मैं अपनी निजी सवारी ऑटो चला रही हूं कल मैं कार चल आऊंगी और मैं सभी बहनों को कहना चाहती हूं कि कोई और बहन ऑटो चलाना चाहती है हम सब उसे पूरी मदद करेंगे। रक्षाबंधन कार्यक्रम के पश्चात सभी बहन ने एक साथ भोजन किया और समिति की ओर से सभी बहनों को उपहार दिया। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से श्रीमती पिंकी तालमपुरिया, सरिता पाल, रीना अतुलकर, अनीता यादव, अनीता प्रजापति, कृष्णा नामदेव, कीर्ति नामदेव, रजनी तालमपुरिया, सुधा खंडारे, ममता, सीमा मांझी, प्रमिला साहू, वर्षा विश्वकर्मा, किरण कुमार, आरती राठौड़, सुमन वरवड़े, विमला राठौर, ज्योति राठौर, सेवंती साह, पूजा अतुलकर, चंद्रकला पंडाग्रे, रेखा धोटे, सीमा नागले, सुनीता कटियार आदि बहने शामिल थी।