अब खुद की बिल्डिंग में ही चला सकेंगे निजी कालेज, नहीं तो लाखों की जमा बैंक गारंटी होगी जब्त

Scn news india

मनोहर

मध्यप्रदेश में बिना मापदंड और अनियमितता से भरे संचालित नर्सिंग कॉलेजों पर सरकार अब नकेल कसने जा रही है। 10×10 के कमरे में अब कालेज चलाना आसान नहीं होगा। नए नियमानुसार   निजी  नर्सिंग कॉलेज खोलने के लिए संस्था के पास खुद की अकेडमिक बिल्डिंग होनीआवश्यक होगी । खुद का अकादमिक भवन न होने पर ऑनलाइन आवेदन करते समय नर्सिंग कॉलेज खोलने वाली संस्था को 25 लाख रूपए की बैंक गारंटी के साथ एफिडेविट देना होगा। और उस संस्था को पांच साल के भीतर अपनी खुद की बिल्डिंग बनानी होगी। पांच साल में बिल्डिंग न बनाने पर नर्सिंग कॉलेज की संचालक संस्था द्वारा जमा की गई 25 लाख की बैंक गारंटी जब्त हो जाएगी।

एक जिले में एक ही कालेज कर सकेगी संचालित 

नियमों में बदलाव करते हुए नियमों को ताक पर रखकर खुल रहे नर्सिंग कॉलेजों पर रोक लगाने के लिए सख्ती की गई है। अब एक जिले में किसी भी समिति, ट्रस्ट या कंपनी एक नर्सिंग कॉलेज संचालित कर रही है तो वह उसी जिले में नया नर्सिंग कॉलेज संचालित नहीं कर पाएगी। जिले में पहले से चल रहे नर्सिंग कॉलेज के नाम से या उससे मिलते जुलते नाम या शॉर्ट नाम से नए नर्सिंग कॉलेज के आवेदन मान्य नहीं किए जाएंगे।