पांसे के मास्टर स्ट्रोक से मुलताई में भाजपा चारों खाने चित विधायक सुखदेव पांसे की गुगली पर भाजपा क्लीन बोल्ड

Scn news india
राजेश साबले जिला ब्यूरो 
बैतूल। हाल ही में हुए पंचायत चुनाव में प्रभातपट्टन जनपद पंचायत में कांग्रेस समर्थित जनपद सदस्यों का बहुमत होने के बावजूद प्रभातपट्टन जनपद में भाजपा समर्थित अध्यक्ष बनने से पूर्व मंत्री सुखदेव पांसे की हो रही किरकिरी को उन्होंने निकाय चुनाव में मास्टर स्ट्रोक खेलकर धराशाही कर दिया। श्री पांसे ने न सिर्फ मुलताई में भाजपा को चारों खाने चित किया बल्कि व्यापक रणनीति बनाकर आमला में भी कांग्रेस के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष निर्वाचित करवा लिया बल्कि शाहपुर में भी भाजपा को सत्ता से दूर करवा दिया। मुलताई नगर पालिका के 15 वार्डो में भाजपा के 9 पार्षद जीते थे वहीं कांग्रेस के 6 ही पार्षद जीत पाए थे। मुलताई नगर पालिका में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलने के बाद भाजपा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष चुना जाना तय माना जा रहा था।
भाजपा संगठन ने अध्यक्ष पद के लिए पार्षद वर्षा गढ़ेकर का नाम तय किया था। वर्षा गढ़ेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के समाज की है। चर्चा है कि वर्षा गढ़ेकर का नाम सीएम हाऊस से तय हुआ था। इसके साथ ही उपाध्यक्ष पद के लिए भाजपा ने पूर्व नपाध्यक्ष डॉ. जीए बारस्कर को प्रत्याशी बनाया था। नगर पालिका चुनाव के परिणाम आने के बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि मुलताई नगर पालिका में भाजपा ने भले ही बहुमत प्राप्त कर लिया है लेकिन भाजपा को अपना अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बना पाना आसान नहीं होगा। सोमवार को अध्यक्ष पद के लिए भाजपा से वर्षा गढ़ेकर ने नामांकन दाखिल किया वहीं कांग्रेस ने पार्षद वंदना साहू का नामांकन दाखिल करवाया। इस बीच भाजपा पार्षद नीतू प्रहलाद परिहार ने पार्टी से बगावत कर अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल कर दिया। श्री पांसे इसकी पटकथा पहले ही लिख चुके थे। पूर्व से तय रणनीति के अनुसार कांग्रेस प्रत्याशी वंदना साहू ने अपना नामांकन वापस ले लिया और कांग्रेस के सभी 6 पार्षदों ने भाजपा की बागी नीतू परमार का समर्थन कर दिया इसके साथ ही नीतू परमार के अतिरिक्त भाजपा के ही दो अन्य पार्षदों ने भी क्रॉस वोटिंग कर बागी नीतू परमार के पक्ष में मतदान कर दिया जिससे नीतू परमार 9 वोट प्राप्त कर अध्यक्ष चुनी गई। नीतू के अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस ने उपाध्यक्ष पद भी हथिया लिया। उपाध्यक्ष चुनाव में भी भाजपा के दो पार्षदों ने क्रॉस वोटिंग कर कांग्रेस प्रत्याशी शिव माहोरे के पक्ष में मतदान किया जिससे कांग्रेस के शिव माहोरे उपाध्यक्ष चुने गए। वहीं भाजपा प्रत्याशी जीए बारस्कर एक वोट से चुनाव हार गए।
भाजपा को दिया करारा जवाब
मुलताई नपा में अध्यक्ष पद की भाजपा प्रत्याशी वर्षा गढ़ेकर को सीएम हाऊस की पसंद का उम्मीदवार माना जा रहा था। भाजपा प्रत्याशी को जिताने हाल ही में जिला पंचायत अध्यक्ष बने राजा पंवार के साथ ही जिला भाजपा संगठन सक्रिय था। लेकिन विधायक सुखदेव पांसे ने ऐसी गुगली फेंकी कि भाजपा क्लीन बोल्ड हो गई। श्री पांसे की रणनीति ने अध्यक्ष पद छीनने के साथ ही उपाध्यक्ष पद भी कांग्रेस की झोली में ला दिया। मुलताई के साथ ही श्री पांसे ने मनोज मालवे के साथ रणनीति बनाकर आमला में भी अपना अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनवाने में कामयाबी पाई वहीं शाहपुर के दो कांग्रेसी पार्षद को पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ से मिलवाने के बाद निर्दलीय प्रत्याशी रोहित नायक के पक्ष में मतदान करवाने राजी कर यहां भी भाजपा प्रत्याशी सूर्यकांत सोनील की हार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। श्री पांसे ने भाजपा को करारा जवाब देकर न सिर्फ प्रभातपट्टन जनपद में हार का बदला ले लिया बल्कि प्रभातपट्टन जनपद चुनाव जीतने के बाद बोल बच्चन बनने वाले भाजपा नेताओं की बोलती बंद कर दी।