MP Weather: एक साथ 7 सिस्टम एक्टिव, 28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज-येलो अलर्ट

Scn news india
आज सोमवार 8 अगस्त सभी संभागों में कहीं कहीं या अनके स्थानों पर गरज चमक के साथ भारी से मध्यम बारिश की संभावना है।
भोपाल। वर्तमान में पश्चिमी विक्षोभ के साथ 7 वेदर सिस्टम एक्टिव है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज सोमवार 8 अगस्त 2022 को 28 जिलों में भारी बारिश और सभी संभागों में हल्की से मध्यम बारिश की चेतावनी जारी की है। वही कई संभागों में बिजली गिरने और चमकने का भी येलो अलर्ट जारी किया गया है।बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र से मानसून एक बार फिर प्रभावी हो गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज सोमवार 8 अगस्त सभी संभागों में कहीं कहीं या अनके स्थानों पर गरज चमक के साथ भारी से मध्यम बारिश की संभावना है।नर्मदापुरम, बैतूल, हरदा, बुरहानपुर, खंडवा,खरगोन,धार, देवास, सीहोर,मंडला, बालाघाट, सागर, छतरपुर,अलीराजपुर, बड़वानी, झाबुआ,रतलाम, विदिशा, रायसेन, टीकमगढ, निवाड़ी, दमोह, पन्ना, जबलपुर,नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा और सिवनी जिलों में भारी से अति भारी बारिश को लेकर ऑरेंज और येलो अलर्ट जारी किया गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, इसके अलावा भोपाल, इंदौर,जबलपुर, नर्मदापुर, शहडोल और रीवा में अनके स्थानों पर गरज चमक के साथ बारिश के आसार है। रतलाम, झाबुआ, खंडवा, हरदा, रायसेन, छिंदवाड़ा, धार, नरसिंगपुर, खरगोन और बुरहानपुर जिलों में कुछ घंटों के लिए बिजली के साथ मध्यम से भारी गरज के साथ बारिश जारी रहने की संभावना है।18 अगस्त तक प्रदेशभर में बारिश का दौर जारी रहेगा। 19 से 25 अगस्त तक ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखंड, बघेलखंड, महाकौशल और नर्मदापुरम में रिमझिम होती रहेगी।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र विकसित हो चुका है, ऐसे में 9 और 10 अगस्त को झमाझम वर्षा हो सकती है। पश्चिम विक्षोभ सहित चक्रवाती असर से आज आठ अगस्त से 10 अगस्त तक जबलपुर सहित संभाग के अनेक स्थानों पर वर्षा व गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना जताई है।रक्षाबंधन के दिन यानी 11 अगस्त को भोपाल में जोरदार बारिश होने के आसार है।
मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 7 वेदर सिस्टम एक्टिव है। बंगाल की खाड़ी के पश्चिम क्षेत्र में एक अति कम दबाव का क्षेत्र बनने से मंगलवार तक अवबाद के क्षेत्र में परिवर्तित हाेकर आगे बढ़ने की संभावना है। मानसून ट्रफ जेसलमेर, काेटा, रायसेन, सिवनी, दुर्ग से हाेते हुए बंगाल की खाड़ी तक और पश्चिमी राजस्थान में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश एवं पूर्व–मध्य अरब सागर में भी हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात मौजूद हैं। दक्षिणी महाराष्ट्र से उत्तरी केरल तट तक एक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। इसके अतिरिक्त मध्य पाकिस्तान पर एक पश्चिमी विक्षाेभ हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में बना हुआ है।
पिछले 24 घंटे का बारिश का रिकॉर्ड
उधर रविवार काे सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक सीधी में 50, मंडला में 17, उज्जैन में 14, ग्वालियर में 12.7, सतना में 10़ इंदौर में 9.2, नौगांव में नौ, रतलाम में पांच, मलाजखंड में पांच, खंडवा में पांच, छिंदवाड़ा में दाे, खजुराहाे में दाे, शिवपुरी में दाे, जबलपुर में 1.6, धार में एक, सागर में 0.6, गुना में 0.4 मिलीमीटर वर्षा हुई।