बिजली की समस्या से आक्रोशित एनएसयूआई एवं सैकड़ों किसान ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री का फूंका पुतला एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

Scn news india

संवाददाता सुनील यादव 

इन दिनों लगातार बड़वारा विधानसभा क्षेत्र में बिजली की समस्या बनी हुई है आए दिन किसान ज्ञापन धरना दे रहे हैं ताकि अव्यवस्थित विद्युत व्यवस्था को दुरुस्त किया जा सके लेकिन बिजली विभाग के अनदेखी के कारण दूर-दूर तक समस्या का निराकरण नहीं दिख रहा है वहीं आज बिजली की समस्या से परेशान होकर बड़वारा विधायक विजय राघवेंद्र सिंह एवं एनएसयूआई विधानसभा अध्यक्ष मोहम्मद इसराइल के नेतृत्व में सैकड़ों किसान एवं ग्रामीणों ने प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का तहसील कार्यालय के सामने पुतला फूंक कर विरोध जताया इस दौरान प्रदर्शनकारी और पुलिस के बीच हल्की फुल्की झड़प हुई प्रदर्शनकारियों ने ढीमरखेड़ा तहसील कार्यालय का घेराव करते हुए एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है इस पूरे मामले पर बड़वारा विधायक विजय राघवेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पूरे बड़वारा विधानसभा क्षेत्र में बिजली की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है इसे लेकर कई बार पत्राचार किए गए लेकिन निराकरण संबंधित विभाग के द्वारा नहीं किया जा रहा है क्षेत्र की जनता पानी के लिए मोहताज हो रही है वही बड़वारा एनएसयूआई विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि पूरे मध्यप्रदेश में बिजली की समस्या विकराल रूप ले चुकी है जिस पर मध्य प्रदेश की सरकार काबू पाने में नाकाम साबित होते नजर आ रही है कटनी जिले के ढीमरखेड़ा ब्लॉक में दो दर्जन के आस-पास के गांव में विद्युत ट्रांसफार्मर खराब पड़े हुए है हजारो परिवार अंधेरे में जीवन यापन करने के लिए मजबूर हो रहे है किसानों को पर्याप्त मात्रा में बिजली ना मिलने के कारण किसानों की फसलें सूखने के कगार पर आ चुकी हैं ग्रामीणों के भीतर बारिश के दिनों पर कीड़े मकोड़ों का ख़ौफ़ बना हुआ है अंधेरे की वजह से क्षेत्र के अलग अलग जगहों पर दर्जनों ग्रामीण जहरीले कीड़ों का शिकार भी हो चुके है कई बार बिजली विभाग को समस्या से अवगत कराया गया लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ जिसे लेकर आज हम सभी किसान भाइयों के साथ सरकार और जिला प्रशासन के लाचार नीतियों और कार्यप्रणालीयो के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर ढीमरखेड़ा एसडीएम को माननीय राज्यपाल महोदय के नाम ज्ञापन सौंपा है चार दिन के भीतर अगर बिजली की समस्या का निदान नहीं किया जाता तो एनएसयूआई एवं समस्त कांग्रेस के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं के द्वारा चरणबद्ध तरीके से आंदोलन किया जाएगा जिसकी जवाबदेह शासन प्रशासन की होगी