मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी का नवाचार

Scn news india

मनोहर 

ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर की मंशानुसार मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने नवाचार करते हुए परंपरागत एसीएसआर कंडक्टर के स्थान पर अधिक क्षमता तथा कम सैग वाले एसीसीसी कंडक्टर का उपयोग नर्मदा नदी क्रासिंग में किया है।

जलग्रहण की ऊँचाई बढ़ने से कार्य हुआ चुनौतीपूर्ण

नर्मदा नदी में बने सरदार सरोवर बाँध की ऊँचाई बढ़ने ये बड़वानी एवं धार जिले के मध्य ग्राम अवाली एवं गोपालपुरा के करीब नदी के जल ग्रहण क्षेत्र में विस्तार हुआ, जिससे जल भराव का ऊँचाई स्तर काफी बढ़ गया था। ऐसी परिस्थिति में 220 केव्ही लाइन को नर्मदा नदी के 750 मीटर चौड़े पाट को पार कराना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। अत्याधिक ऊँचे जमुना क्रॉसिंग टावर पर परंपरागत कंडक्टर को खींचने के बाद भी कंडक्टर की पानी से दूरी सुरक्षा मानकों से कम हो जाती। इस स्थिति में ट्रांसमिशन कंपनी के इंजीनियर्स ने नवाचार कर एक नए प्रकार के कंडक्टर का उपयोग करने का निर्णय लिया, जिसमें कार्बन फाइबर की कोर है। यह कंडक्टर परंपरागत एसीएसआर कंडक्टर से अधिक मज़बूत तथा अधिक करंट वहन करने में सक्षम है। इस कंडक्टर का दो टावर्स के मध्य में झुलाव या सैग परंपरागत एसीएसआर कंडक्टर से बहुत कम है। साथ ही यह कंडक्टर तुलनात्मक रूप से गर्म भी कम होता है। 220 के.व्ही. सबस्टेशन जुलवानिया से 220 केव्ही सबस्टेशन कुक्षी तक 220 केव्ही लाइन के निर्माण में नर्मदा नदी क्रासिंग में इस कंडक्टर का उपयोग किया गया है।