51 साल पुराने श्री राधा-कृष्ण मंदिर का हुआ सौंदर्यीकरण

Scn news india
राजेश साबले जिला ब्यूरो 
  •  बनाया आडिटोरियम, श्रद्धालुओं के लिए हुई नई व्यवस्था
  •  भगवान श्रीकृष्ण की लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी पेंटिंग
  •  मंदिर परिसर में एक साथ ऑडिटोरियम में बैठ सकेंगे 200 लोग
बैतूल। नगर के कोठीबाजार क्षेत्र में प्रसिद्ध श्री पार्वती बाई राधाकृष्ण मंदिर का सौंदर्यीकरण एवं जीर्णोंद्धार का कार्य श्री रामंदिर, श्री शिवमंदिर, श्री राधाकृष्ण मंदिर, श्री छोटा राम मंदिर, पार्वती भवन, एकीकृत ट्रस्ट द्वारा करवाया गया है। यह मंदिर 1871 में ठाकुर भैरोमल की पौत्री पार्वती बाई द्वारा निर्मित करवाया गया था और 1926 से इस मंदिर में पं. शिवदयाल पुरोहित एवं उनके बाद 1959 से पं. श्रीनारायण पारिख सेवारत रहे। 1995 से उनके पुत्र पं. राधेश्याम राजू पारिख धार्मिक कार्य कर रहे हैं।
मूर्तियों को रखा गया है यथावत
ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रमोद कुमार अग्रवाल ने बताया कि यह मंदिर लगभग डेढ़ सौ वर्ष पुराना है जिसका वर्ष 2012-13 में पुर्ननिर्माण कराया गया था लेकिन निर्माण के दौरान श्री राधा-कृष्ण की मूर्ति को यथावत रखा गया था। जन्माष्टमी पर्व के दौरान श्रद्धालुओं के मंदिर में आने-जाने की व्यवस्था संकरी होने के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। इस समस्या को दृष्टिगत रखते हुए मंदिर में आने का मार्ग लगभग 22 फीट का कर दिया गया है ताकि श्रद्धालुओं की आवाजाही सुगम हो सके।
200 लोगों के बैठने की है व्यवस्था
ट्रस्ट के ट्रस्टी सचिव नवनीत गर्ग ने बताया कि नगर के कोठीबाजार क्षेत्र में विशाल मेगामार्ट के सामने स्थित श्री राधा-कृष्ण मंदिर प्रांगण में विशाल आडिटोरियम का निर्माण किया गया है जिसमें आकर्षक मंच के अलावा लगभग 200 लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। कोठीबाजार क्षेत्र का यह पहला स्थान है जहां पर इतने अधिक लोगों बैठने की व्यवस्था होगी।
यह कर सकेंगे आयोजन
ट्रस्ट के ट्रस्टी डॉ. कांत दीक्षित ने बताया कि इस आडिटोरियम में श्रीमद् भागवत कथा, अखण्ड रामायण पाठ सहित अन्य धार्मिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक कार्यों के लिए भी उपयोग किया जा सकेगा। कोठीबाजार क्षेत्र में लंबे समय से ऐसे आडिटोरियम की कमी महसूस की जा रही थी इसी को दृष्टिगत रखते हुए ट्रस्ट ने इसका निर्माण करवाया है।
आकर्षक लग रही है पेंटिंग
ट्रस्ट के ट्रस्टी राम भार्गव ने बताया कि मंदिर में आकर्षक रंग-रोगन भी करवाया गया है। इसके अलावा लगभग 50 फीट लंबी श्री कृष्ण जी के गोवर्धन पर्वत उठाने की पेंटिंग भी श्रद्धालुओं का ध्यान आकर्षित कर रही है। श्री भार्गव के अनुसार भविष्य में लल्ली चौक के सामने स्थित ट्रस्ट के अन्य मंदिरों में श्री शिव मंदिर का भी जीर्णोंद्धार और पुर्ननिर्माण किए जाने की योजना है। जिसको शीघ्र ही मूर्त रूप दिया जाएगा।