सम्पूर्ण मध्यप्रदेश मौसम पूर्वानुमान की विस्तृत जानकारी-एक साथ कई सिस्टम एक्टिव, 34 जिलों में भारी बारिश…

Scn news india
MP Weather: एक साथ कई सिस्टम एक्टिव, 34 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, बिजली गिरने की भी चेतावनी, रेड-ऑरेंज अलर्ट जारी
इसमें नर्मदापुरम् संभाग के साथ छिंदवाड़ा, बुरहानपुर और खंडवा जिलों में अति भारी के चलते रेड अलर्ट जारी किया गया है।
भोपाल। मध्य प्रदेश में झमाझम बारिश का दौर जारी है, नदी नाले उफान पर आने से कई हाईवे और मार्ग बंद हो गए है और कई शहरों-गांवों का संपर्क टूट गया है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) की मानें तो अभी 19 तक मौसम के ऐसे ही बने रहने के आसार है। आज बुधवार 13 जुलाई 2022 को 34 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का रेड और ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। वही 7 संभागों और 2 जिलों में बिजली गिरने और चमकने की चेतावनी जारी करते हुए येलो अलर्ट जारी किया गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज बुधवार 13 जुलाई को 34 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश को लेकर रेड और ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इसमें नर्मदापुरम् संभाग के साथ छिंदवाड़ा, बुरहानपुर और खंडवा जिलों में अति भारी के चलते रेड अलर्ट जारी किया गया है।वही भोपाल और उज्जैन संभाग के साथ कटनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, सिवनी, मंडला, बालाघाट, अनूपपुर, सागर, दमोह, खरगोन, बड़वानी, अलीराजपुर, झाबुआ, इंदौर, धार और गुना में भारी बारिश की चेतावनी के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। वही इंदौर, उज्जैन, भोपाल, नर्मदापुरम, सागर, जबलपुर और शहडोल संभागों और गुना और ग्वालियर जिलों में गरज चमक के साथ बिजली गिरने और चमकने का भी येलो अलर्ट जारी किया गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में कई वेदर सिस्टम एक्टिव है। वर्तमान में दक्षिणी ओड़ीशा तट के पास निम्न दाब क्षेत्र और अधिक प्रभावशाली होकर सुस्पष्ट निम्न दाब क्षेत्र के रूप में संयुग्मित चक्रवातीय परिसंचरण के साथ सक्रिय है, जो समुद्र तल से 7.6 किमी की ऊँचाई तक दक्षिण-पश्चिमी झुकाव के साथ फैला हुआ है। मॉनसून ट्रफ जैसलमेर-कोटा, गुना, रायसेन, मण्डला, रायपुर, झारसुगड़ा और सुस्पष्ट निम्न दाब क्षेत्र से होते हुए पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है। साथ ही 20 डिग्री उत्तर अक्षांश के सहारे पठारी क्षेत्र के उत्तरी हिस्से में मध्य क्षोभमंडल के स्तर पर पूर्व से पश्चिम विरूपक हवाएँ सक्रिय हैं और पंजाब के ऊपर अन्य चक्रवातीय परिसंचरण सक्रिय है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, प्रदेश में अभी 3-4 दिनों तक गरज चमक के साथ झमाझम बारिश और बिजली गिरने का दौर जारी रहने वाला है। 16 जुलाई तक पश्चिमी मध्य प्रदेश में कहीं-कहीं भारी बारिश और 19 जुलाई तक मध्यप्रदेश के विभिन्न हिस्सों में रुक-रुककर बारिश होने की संभावना है। 15 जुलाई को बंगाल की खाड़ी मे नया सिस्टम बनेगा इसके प्रभाव से 16 और 17 जुलाई को इंदौर में में अच्छी बारिश होने के आसार है।
पिछले 24 घंटे का बारिश का रिकॉर्ड
प्रदेश में मंगलवार को बेतूल में 68 मिलीमीटर, खंडवा में 38 मिलीमीटर, ग्वालियर में 36 मिलीमीटर, पंचमढ़ी में 26 मिली मीटर, भोपाल के बैरागढ़ में 17.2 मिलीमीटर, दमोह में 19 मिलीमीटर वर्षा हुई। वहीं इंदौर में 5.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। प्रदेश में मानसून सीजन में पूरी मध्यप्रदेश में जहां औसत से 6 प्रतिशत कम वर्षा हुई है जबकि पश्चिमी मध्य प्रदेश में औसत से 21 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई है।