शनिवार को मानसून ट्रफ लाइन के पश्चिमी हिस्से के खिसकने के आसार, जिससे दक्षिणी मध्य प्रदेश में हो सकती है अधिक वर्षा

Scn news india
भोपाल। मध्य प्रदेश में मानसून अपना खूब रंग दिखा रहा है। प्रदेश के किसी क्षेत्र में कम, तो किसी में ज्यादा वर्षा रोजाना हो रही है। विभिन्न जिलों में सुबह व दोपहर के वक्त खिली-खिली धूप के भी दर्शन हो रहे हैं। मानसून ट्रफ लाइन की बात करें, तो यह वर्तमान में मध्यप्रदेश के गुना एवं जबलपुर से हाेकर गुजर रही है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि शनिवार को ट्रफ लाइन का पश्चिमी हिस्सा पंजाब की तरफ थोड़ा खिसक सकता है, जिससे दक्षिणी मध्य प्रदेश में अच्छी वर्षा हो सकती है।
इसके साथ ही विभिन्न मौसम प्रणालियों के चलते प्रदेश में रिमझिम वर्षा का दौर पूर्व की तरह जारी रहेगा। इसी क्रम में शुक्रवार काे सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक उमरिया में 30, छिंदवाड़ा में 22, बालाघाट-पाला में16.5, नर्मदापुरम-पचमढ़ी में 15, गुना – आरोन में 10.5, शिवपुरी-पिपरसमा में 10, अशोकनगर-आंवरी में 8, मंडला सिटी में 6, भोपाल में 5.2, गुना में 3, सतना में 2 मिमी वर्षा दर्ज की गई।
न कम-न ज्यादा, सामान्य वर्षा होती रहेगी
मौसम विज्ञान केंद्र की वरिष्ठ मौसम विज्ञानी डा. ममता यादव ने बताया कि वर्तमान में दक्षिणी पाकिस्तान के आसपास निम्न दाब क्षेत्र बना हुआ है। इससे लेकर मानसून ट्रफ लाइन अहमदाबाद, गुना, जबलपुर, पेन्ड्रा रोड और झारसुगड़ा-गोपालपुर से होते हुए पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है। इसके साथ ही पश्चिमोत्तर बंगाल की खाड़ी में ओडिशा-आंध्र प्रदेश के तट के पास चक्रवातीय परिसंचरण समुद्र तल से 7.6 किमी की ऊंचाई पर सक्रिय है, जबकि गुजरात से कर्नाटक तक के समांतर अपतटीय ट्रफ विस्तृत है।
साथ ही 19 डिग्री उत्तर अक्षांश के सहारे पठारी क्षेत्र के उत्तरी हिस्से में मध्य क्षोभ मंडल के स्तर पर पूर्व से पश्चिम विरूपक हवाएं सक्रिय हैं। डा. ममता के अनुसार शनिवार को मानसून ट्रफ लाइन का पश्चिमी हिस्सा थोडा़ ऊपर यानी पंजाब की ओर खिसक सकता है। इन्हीं सब प्रणालियों का असर तीन-चार दिन तक मध्य प्रदेश के मौसम पर पड़ेगा। हालांकि इन दिनों बहुत ज्यादा वर्षा भी नहीं होगी। रूक-रुक कुछ इलाकों में वर्षा का दौर जारी रहेगी। यही वजह है कि मौसम विभाग ने अभी येलो अलर्ट ही रखा है। इसे आरेंज या रेड नहीं किया है।