मानसून की रफ्तार बढ़ी, नया सिस्टम एक्टिव, 24 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, बिजली गिरने की चेतावनी

Scn news india
मनोहर
आज मंगलवार 5 जुलाई 2022 को 24 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का ऑरेंज और यलो अलर्ट जारी किया गया है। वही 7 संभाग के साथ 2 जिलों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी चेतावनी जारी की गई है।
भोपाल। मानसून की गतिविधियां तेज होते ही पूरे प्रदेश में झमाझम का दौर शुरू हो गया है। नदी नाले उफान पर आ गए है और फिजा में भी ठंडक घुलने लगी है। वर्तमान में दो सिस्टम एक्टिव है और दक्षिणी पूर्वी मध्य प्रदेश पर बने कम दबाव का क्षेत्र से मालवा की ओर बारिश हो रही है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज मंगलवार 5 जुलाई 2022 को 24 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का ऑरेंज और यलो अलर्ट जारी किया गया है। वही 7 संभाग के साथ 2 जिलों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी चेतावनी जारी की गई है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज मंगलवार 5 जुलाई 2022 को नर्मदापुरम संभाग के साथ धार,इंदौर, खंडवा, खरगोन, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, उज्जैन ,नीमच, रतलाम, शाजापुर, देवास, आगर, मंदसौर, भोपाल, राजगढ़, सीहोर, छिंदवाड़ा, मंडला, सिवनी, जिलों में अति भारी बारिश से भारी बारिश को लेकर ऑरेंज- येलो अलर्ट जारी किया गया है। वही भोपाल, नर्मदापुरम, इंदौर, उज्जैन, सागर, जबलपुर और शहडोल संभाग के साथ गुना और अशोकनगर में गरज चमक के साथ बिजली गिरने और चमकने की चेतावनी जारी की गई है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 2 सिस्टम एक्टिव है।वर्तमान में दक्षिणी झारखंड के ऊपर निम्न दाब क्षेत्र समुद्र तल से 5.8 किमी की ऊँचाई तक फैले दक्षिण-पश्चिमी झुकाव वाले संयुग्मित चक्रवातीय परिसंचरण के साथ सक्रिय हो चुका है। वहीं पश्चिमोत्तर राजस्थान से लेकर उत्तर-मध्य अरब सागर तक ट्रफ लाइन (Trough) समुद्र तल से 3.1 किमी की ऊँचाई पर गुजर रही है। जबकि मानसून ट्रफ (Monsoon Trough) जैसलमेर-कोटा से लेकर गुना, सीधी, निम्न दाब क्षेत्र और झारसुगड़ा-पुरी से होते हुए पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है।इन दाे सिस्टमों के कारण राजधानी सहित पूरे प्रदेश में झमाझम बारिश का दौर जारी है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, 7 जुलाई के बाद इंदौर में झमाझम बारिश के आसार हैं। 6 जुलाई को शहर में दोपहर बाद कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा होने की संभावना है। पांच दिनों तक जबलपुर संभाग के जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है। कहीं-कहीं बिजली गिरने और भारी से अति भारी बारिश भी हो सकती है।बंगाल की खाड़ी में बने कम दवाब की वजह से छह व सात जुलाई को भी बर्षा के आसार हैं।
पिछले 24 घंटे का बारिश का रिकॉर्ड
पिछले 24 घंटाें के दौरान मंगलवार सुबह साढ़े अाठ बजे तक भाेपाल में 123.7, मंडला में 81.4, मंडला में 57.2, बैतूल में 30.6, सिवनी में 28.4, सागर में 25.8, खंडवा में 20, जबलपुर में 19.8, ग्वालियर में 18.8, पचमढ़ी में 17.2, गुना में 16.6, नर्मदापुर में 16, मलाजखंड में 15.2, रायसेन में 15, दमाेह में 12, सीधी में 10.8, नरसिंहपुर में छह, उज्जैन में 4.6, खरगाेन में 4.2, रीवा में 2.4, रतलाम में दाे, इंदौर में 1.2, धार में 0.6, सतना में 0.4 मिलीमीटर बारिश हुई।