24 घंटे में फिर बदलेगा मौसम, 30 जिलों में भारी बारिश और बिजली गिरने का अलर्ट, कई सिस्टम एक्टिव

Scn news india
मनोहर
आज रविवार 3 जुलाई 2022 को 30 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। वही सभी 6 संभागों और 3 जिलों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी चेतावनी जारी की गई है।
भोपाल। वर्तमान में अलग अलग स्थानों पर 5 वेदर सिस्टम एक्टिव है और सोमवार 4 जुलाई को ओडिशा तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र विकसित होने की संभावना है, जिसके बाद 5 जुलाई से प्रदेशभर में झमाझम बारिश के आसार है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज रविवार 3 जुलाई 2022 को 30 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। वही सभी 6 संभागों और 3 जिलों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी चेतावनी जारी की गई है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज रविवार 3 जुलाई 2022 को भोपाल संभाग के साथ अनूपपुर, उमरिया, शहडोल, जबलपुर, सिवनी, छिंदवाड़ा, बालाघाट, मंडला,कटनी, बैतूल, नर्मदापुर, सागर, दमोह, खंडवा, खरगोन, शाजापुर, आगर, इंदौर, धार, उज्जैन, रतलाम, देवास, अलीराजपुर,गुना और मंदसौर में भारी बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है। वही भोपाल, नर्मदापुरम, इंदौर, उज्जैन, जबलपुर और शहडोल संभाग के साथ दमोह, सागर और गुना में गरज चमक के साथ बिजली गिरने और चमकने का अलर्ट जारी किया गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, मानसून पूरे देश में सक्रिय हो चुका है, लेकिन बंगाल की खाड़ी में प्रभावी सिस्टम बनने के बाद ही झमाझम बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। 4 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में कम दवाब का क्षेत्र विकसित होगा, इसके बाद 5 जुलाई से फिर मानसून मेहरबान होगा और ग्वालियर-चंबल संभाग में अच्छी बारिश के आसार बनेंगे। इंदौर में जुलाई और अगस्त माह में वर्षा का स्तर सामान्य के आसपास रहेगा। वही पूर्वी मप्र में वर्षा की गतिविधि ज्यादा होगी। कई वेदर सिस्टम एक्टिव होने के कारण प्रदेश में कहीं कहीं गरज चमक के साथ वर्षा हो रही है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 5 वेदर सिस्टम एक्टिव है। वर्तमान में राजस्थान के ऊपर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात मौजूद है और इस चक्रवात से लेकर पश्चिम-मध्य अरब सागर तक ट्रफ लाइन बनी हुई है। वही मानसून ट्रफ बीकानेर-अलवर से लेकर हरदोई, डाल्टनगंज और शांति निकेतन से होते हुए पूर्वोत्तर बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है, जबकि दक्षिणी गुजरात से उत्तरी महाराष्ट्र तट के समानांतर एक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। वही बांग्लादेश पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है जिसके प्रभाव में सोमवार को ओडिशा तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र विकसित होने की संभावना है।
पिछले 24 घंटे का बारिश का रिकॉर्ड
पिछले 24 घंटों के दौरान सिवनी में 94.2, सागर में 36, मंडला में 28, जबलपुर में 27.9, धार में 25.1, उज्जैन में 20, भोपाल शहर में 13.6, दतिया में 11.4, सीधी 9.6, खजुराहो में 8.4, सतना में 8.2, छिंदवाड़ा में 7.8, खरगोन में 6.8, रीवा में 5.6, रायसेन में 5.6, इंदौर में 3.6, नरसिंहपुर में तीन, उमरिया में 2.8, दमोह में दो, गुना में 1.9, मलाजखंड में 0.6 एवं ग्वालियर में 0.4 मिलीमीटर वर्षा हुई।