जिले में मनाया जा रहा है गहन डायरिया पखवाड़ा,जल स्रोतों की सफाई तथा ओ आर एस का किया जा रहा है वितरण

Scn news india

उजेन्द्र कुमार जिला ब्यूरो  
बलौदाबाजार,24 जून 2022/बरसात के इस मौसम में विभिन्न प्रकार की मौसम जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए राज्य शासन द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुरूप जिले में भी इस संबंध में पूरी तैयारी की गई है। इसी कड़ी में बलौदा बाजार जिले में 21 जून से 5 जुलाई तक गहन डायरिया नियंत्रण पखवाड़ा जारी है। इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एम पी महिस्वर ने बताया कि,डायरिया पाचन से संबंधित एक बीमारी है जिसमें व्यक्ति को दस्त आना शुरू हो जाते हैं। यह दूषित पानी और भोजन के सेवन से होता है। डायरिया में व्यक्ति को लगातार दस्त आते हैं जो यदि ठीक न हो तो निर्जलीकरण का कारण बन सकते हैं जिससे जान का खतरा हो सकता है। कुपोषित लोगों, शिशुओं, छोटे बच्चों, और कमजोर प्रतिरक्षा वाले लोगों में इस तरह के खतरनाक संक्रमण का शिकार होने का खतरा अधिक होता है। डायरिया के कुछ लक्षण हैं -पतला दस्त,पेट में ऐंठन या ऐंठन होना,मतली और उल्टी, बुखार,निर्जलीकरण,भूख में कमी। जिले में डायरिया के किसी भी संक्रमण के प्रसार को रोकने हेतु जमीनी स्तर पर स्वास्थ विभाग द्वारा कार्य किए जा रहे हैं इसमें स्वास्थ्य कार्यकर्ता तथा मितानिनों को डायरिया प्रबंधन हेतु प्रशिक्षण दिया गया है। साथ ही गांव स्तर पर प्रचार-प्रसार के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इसके अंतर्गत स्वच्छता की उपयोगिता एवं तैयारी के साथ ही विद्यार्थियों के बीच जागरूकता हेतु कार्यशाला आयोजित की जा रही है।
क्योंकि डायरिया में निर्जलीकरण से बचाव अत्यंत आवश्यक है इसे ध्यान में रखते हुए गांव में ऐसे घर जहां 5 वर्ष से कम के बच्चे निवासरत हैं वहां मितानिनों के माध्यम से ओ आर एस के पैकेट वितरित करवाए गए हैं । साथ ही जल स्रोतों की सफाई के साथ-साथ स्वच्छता बाबत क्लोरीन टेबलेट का भी वितरण किया गया है। उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों जैसे ईट भट्ठा खानाबदोश स्थल बाढ़ प्रवण क्षेत्र प्रवासी मजदूर सड़क पर रहने वाले बच्चे मलिन बस्ती आदि जगहों पर भी ओआरएस की पूर्व उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।जिले के सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में ओ आर एस एवं जिंक हेतु विशेष कॉर्नर बनाए गए हैं। जहां यह निःशुल्क उपलब्ध हैं इस संबंध में निजी चिकित्सालयों को भी ऐसे कॉर्नर बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही प्रत्येक विकासखंड में एक रैपिड रिस्पांस टीम का भी गठन किया गया है जो डायरिया के किसी भी प्रकरण की सूचना मिलने पर त्वरित रूप से कार्यवाही करती है।

Live Web           TV