4 जिलों के साथ 6 संभागों में बारिश की चेतावनी, बिजली गिरने का भी अलर्ट, जानें कब ग्वालियर पहुंचेगा मानसून?

Scn news india
  • 27 जून तक ग्वालियर में दस्तक दे सकता है।मानसूनी बारिश 26 व 27 जून के बीच संभावित है। 
  • अभी दो दिनों तक स्थानीय प्रभाव से गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी का दौर जारी रहेगा।
भोपाल- जून से प्रदेश में झमाझम बारिश का सिलसिला शुरू होने के आसार है। वर्तमान में 5 वेदर सिस्टम एक्टिव है, जिसके कारण नमी आ रही है और तापमान में कमी दर्ज की जा रही है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज बुधवार 22 जून 2022 को 6 संभागों में हल्की बारिश और 4 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है, वही 6 संभागों और 2 जिलों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी येलो अलर्ट जारी किया है।
मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में सबसे अधिकतम तापमान 37.6 डिग्री सेल्सियस सीधी में दर्ज किया गया। पिछले 24 घंटे के दौरान रीवा को छोडकर भोपाल, इंदौर और उज्जैन संभागों के कुछ स्थानों पर, शहडोल, जबलपुर, सागर, ग्वालियर व चंबल संभाग में कई इलाकों, नर्मदापुरम संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बारिश हुई। आज बुधवार 21 जून 2022 को 6 संभागों शहडोल, इंंदौर,जबलपुर, भोपाल, नर्मदापुरम, उज्जैन संभाग के साथ सागर और दमोह में हल्की और 2 जिलों बैतूल और छिंदवाड़ा जिले में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वही गरज चमक के साथ सभी 6 संभागों में बिजली चमकने-गिरने और 20 किमी/घंटे की रफ्तार से हवा चलने को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, दक्षिण पश्चिम मानसून जिसकी उत्तरी सीमा पोरबंदर, बडौदा, शिवपुरी, रीवा से होकर गुजर रही है, इसके कारण ग्वालियर चंबल को छोडकर सभी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश हो रही है, लेकिन सभी झमाझम बारिश के लिए अभी एक हफ्ते का इंतजार करना होगा। जून के अंत यानी 28 के बाद लगातार बारिश के संकेत है। इंदौर में जुलाई व अगस्त माह में सामान्य से अधिक बारिश होने की संभावना है। वही 27 जून तक ग्वालियर में दस्तक दे सकता है।मानसूनी बारिश 26 व 27 जून के बीच संभावित है। अभी दो दिनों तक स्थानीय प्रभाव से गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी का दौर जारी रहेगा।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 5 सिस्टम एक्टिव है। वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षाेभ जम्मू-कश्मीर और एक उत्तर-पूर्वी राजस्थान पर एक प्रेरित चक्रवात बना हुआ है। हरियाणा से लेकर बंगाल की खाड़ी तक एक द्राेणिका लाइन बनी हुई है। पूर्वी उत्तर प्रदेश पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इसके अतिरिक्त गुजरात से लेकर केरल तक एक अपतटीय द्राेणिका लाइन बनी हुई है। इन पांचों वेदर सिस्टम से नमी आ रही है और प्रदेशभर में बारिश हो रही है। बुधवार-गुरुवार काे नर्मदापुरम एवं जबलपुर संभागाें के जिलाें में तेज बौछारें पड़ने की संभावना है।
पिछले 24 घंटे का बारिश का रिकॉर्ड
मंगलवार काे सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक खंडवा में 43, खरगाेन में 23, उज्जैन में 20, टीकमगढ़ में 15, धार में सात, इंदौर में 1.2 मिलीमीटर वर्षा हुई।
Live Web           TV