निर्वाचन के दौरान सोशल मीडिया के दुरूपयोग पर होगी दण्ड़ात्मक कार्यवाही

Scn news india

मनोहर

दतिया- नगरीय निकाय निर्वाचन 2022 के चुनावों को मद्देनजर रखते हुए जिला दण्ड़ाधिकारी श्री संजय कुमार ने दण्ड़ प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अधीन तथा वर्तमान में कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग केन्द्र सराकर तथा राज्य सरकार तथा एमएचए द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुरूप निर्वाचन के दौरान सोशल मीडिया के दुरूपयोग को रोकने हेतु प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए है। जारी आदेश में कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्मो जैसे वाट्सपर, फेसबुक, हाईक, ट्यूटर, एसएमएस, इंस्टाग्राम आदि का दुरूपयोग कर धार्मिक, सामाजिक जातिगत भावनाओं एवं विद्धेष को भड़काने के लिए किसी भी प्रकार के संदेशों का प्रसारण नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया के किसी भी प्लेटफार्म में किसी भी प्रकार के आपत्तिजनक एवं उन्माद फेलाने पर संदेश, फोटो, वीडियो आदि भी प्रसारित नहीं करेगा। जिससे किसी की धार्मिक, सामाजिक एवं जातिगत भावनाएं भड़क सके एवं साम्प्रदायिक विद्धेष पैदा हो सके। सोशल मीडिया के किसी भी पोस्ट जिसमंे धार्मिक साम्प्रदायिक एवं जातिगत भावना को भड़कने पर कमेंट, लाईक, शेयर एवं फारवर्ड भी नहीं करेगा। ग्रुप एडमिन की यह व्यक्तिगत जिम्मेदारी होगी कि वह ग्रुप में इस प्रकार के व्यक्तिगत संदेशों को रोकेंगे। कोई भी व्यक्ति, सामुदायिक, धार्मिक जातिगत विद्धेष या लोगों अथवा समुदाय के मध्य घृणा, वेमनुष्ता पैदा करने एवं दुष्प्रेरित करने या उकसाने या हिंसा फैलाने का प्रयास उपरोक्त माध्यमों से नहीं करेगा और न ही इसके लिए किसी को प्रेरित करेगा। कोई भी व्यक्ति अफवाह या तथ्यों को तोड़ मरोड़कर भड़काने, उन्माद उत्पन्न करने वाले संदेश जिसमें लोग या समुदाय विशेष हिंसा या गैर कानूनी गतिविधियों में संलग्न होने पर प्रसारित नहीं करेगा और न ही लाईव शेयर या फारवर्ड करेगा तथा न ही ऐसा करने के लिए किसी को प्रेरित करेगा। कोई भी व्यक्ति, समुदाय ऐसे संदेशों को प्रसारित नहीं करेगा जिनसे किसी व्यक्ति संगठन, समुदाय आदि को एक स्थान पर एक राय होकर जमा होने या उनसे कोई विशेष कार्य, गैर कानूनी गतिविधियां करने हेतु आह्वान किया गया हो जिससे शांति एवं कानून व्यवस्था भंग होने की प्रबल संभावना हो। यह प्रतिबंधात्मक आदेश तत्कल प्रभाव से 20 जुलाई तक प्रभावशील रहेगा। आदेश का उल्लंघन करने पर संबंधित के विरूद्ध भारतीय दण्ड़ संहिता की धारा 188 साईवर विधि अन्य अधिनियम के अंतर्गत दण्ड़ात्मक कार्यवाही की जायेगी।