फरियादी एटीपी मशीन आपरेटर बिजली कर्मी राजेश खातरकर ही असली आरोपी -लूट की कहानी उसी ने गढ़ी

Scn news india

ब्यूरो रिपोर्ट

सारनी – नगर में सनसनी मचा देने वाले लूट की घटना का मौकाय वारदात का निरिक्षण कर पुलिस अधीक्षक सिमला प्रसाद ने चंद घंटो में खुलासा कर दिया। मामले में लूट की घटना का फरियादी एटीपी मशीन आपरेटर बिजली कर्मी राजेश खातरकर ही असली आरोपी निकला, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लूट की रकम बरामद कर ली है।  आरोपी ने भी अपना गुनाह कबूल किया है। यों कहे की अपने बिछाये जाल में खुद ही फस गया।

सारनी थाना प्रभारी  रत्नाकर हिंगवे ने कथित लूट की घटना का  खुलासा करते हुए  बताया की घटना शुरू से ही संदिग्ध लग रही थी। राजेश का बार बार बयान बदलना और घटना स्थल की थ्योरी गले नहीं उतर रही थी। फिर भी शिकायत को गंभीरता से लेते हुए वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में बारीकी से जांच की जिसमे बार बार शक की सुई राजेश पर ही जा कर टिक रही थी।

वही राजेश न ही आरोपियों का सही हुलिया बता पा रहा था। नाही हमले की सही जानकारी। जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो असलियत सामने आ गई और उसने सारी कहानी बयां की। उसने बताया कि लूट की कहानी उसी ने गढ़ी थी। लूट को किसी के द्वारा अंजाम नहीं दिया गया  बल्कि खुद उसने  ही बिजली बिल की जमा होने वाली राशि में गड़बड़ी को छिपाने यह कारगुजारी की ।

राजेश ने बताया की कंपनी से मिलने वाली तन्खा से गुजारा नहीं होता , वह रोज शाम 7 बजे के बाद आने वाले बिल की रकम को अपने उपयोग में लेता था। और दूसरे दिन की11 बजे तक जमा होने वाली राशि उसमे मिला शाम तक का हिसाब पूरा कर बैंक में जमा कर देता। लेकिन धीरे धीरे रकम बढ़ती गई, जिस दिन 81 हजार का हिसाब जमा करना था कलेक्शन 61 हजार का ही हुआ पुरे 20 हजार की गड़बड़ी छिपाने लूट की कहानी बनाई। पुलिस ने आरोपी से लूट की रकम बरामद कर आगे की कारवाही कर रही है।