मंगलवार को मध्यप्रदेश के इन 6 जिलों के लोग रहें सावधान, यहां चलेंगी 90 किमी की स्पीड से हवाएं और होगी ओलावृष्टि

Scn news india
मौसम विभाग ने 6 जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट, 28 जिलों में तेज हवाओं के साथ बारिश की संभावना
मध्यप्रदेश में सोमवार को कई जिलों में बादल छाए रहने, तेज हवाओं के साथ बारिश होने के कारण तापमान गिर गया। अधिकतम 41 डिग्री तापमान खजुराहो सहित पांच जिलों में दर्ज किया गया। रविवार रात में सबसे ज्यादा बारिश 40 मिमी शिवपुरी में दर्ज हुई जबकि दिन में सबसे ज्यादा 11 मिमी बारिश सतना जिले में हुई है। इससे लोगों को तेज गर्मी से राहत मिली है। सतना और उमरिया, श्यौपुर दतिया और शिवपुरी में तेज हवाओं के साथ ओले भी गिरे। शिवपुरी में 64 किमी की रफ्तार से हवाएं चली। भोपाल में सोमवार शाम को तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। मौसम विभाग ने मंगलवार को भोपाल सहित 28 जिलों में धूल भरी तेज हवाओं के साथ हल्की बारिश और 6 जिलों में गरज-चमक के साथ बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की है।
मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को मध्यप्रदेश में अधिकतम तापमान 41 डिग्री दर्ज किया गया है। यह खजुराहो, खंडवा, राजगढ़, खरगोन और दमोह में दर्ज हुआ है। जबकि भोपाल में 39.8 डिग्री तापमान रहा। सतना के बाद खजुराहो में 8.3 और नौगांव में 8 मिमी बारिश दर्ज हुई। इसके साथ रीवा, मंडला, ग्वालियर, टीकमगढ़ और सागर में भी बारिश हुई।
मौसम विभाग ने 6 जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट
♦️6 जिलों में 90 किमी की स्पीड से हवाएं चलने और ओलावृष्टि की चेतावनी
मौसम विभाग ने मंगलवार को 6 जिलों मंडला, बालाघाट, सीधी, सिंगरौली, डिंडोरी और अनूपपुर के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। यहां 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से धूलभरी झाेंकेदार हवाओं के साथ क्रमिक बिजली चमकने, मध्यम वर्षा के साथ ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की गई है। यह िस्थति 4-5 घंटे तक रह सकती है।
इन 28 जिलों में तेज हवाओं के साथ होगी बारिश
मौसम विभाग ने भोपाल, रायसेन, नर्मदापुरम, विदिशा , मुरैना, दतिया, अशोकनगर, कटनी, जबलपुर, छतरपुर, आगर मालवा, ग्वालियर, सागर, नीमच, मंदसौर और निवाड़ी में 40 किमी की स्पीड से हवाएं चलने और गरज-चमक के साथ हल्की बारिश की संभावना जताई है। वहीं राजगढ़, गुना, श्यौपुर, शिवपुरी, भिंड, पन्ना, शहडोल, उमरिया, सिवनी, सतना और रीवा में 60 की स्पीड में झोंकेदार तेज हवाओं, गरज चमक के साथ बारिश की संभावना जताई गई है। सीहोर और टीकमगढ में भी बूंदाबादी हो सकती है।
यह है कारण
वर्तमान में पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पाकिस्तान के ऊपर समुद्र तल से 4.5 किमी व 7.6 किमी की ऊँचाई के मध्य चक्रवातीय परिसंचरण के रूप में सक्रिय है। साथ ही राजस्थान के ऊपर प्रेरित निम्न दाब क्षेत्र समुद्र तल से 1.5 किमी की ऊँचाई तक फैले चक्रवातीय परिसंचरण के साथ सक्रिय है, जिससे होकर पूर्व-पश्चिम ट्रफ उत्तर प्रदेश, बिहार और बांग्लादेश तक विस्तृत है। जबकि उत्तर-दक्षिण ट्रफ राजस्थान से होते हुए गुजरात और पूर्वोत्तर अरब सागर तक विस्तृत है। इसी के कारण तेज हवाएं चल रही हैं और बारिश हो रही है।