ग्राम रक्षा समिति के सदस्यों के सहयोग से पुलिस ने गोवंश से भरा वाहन पकड़ा

Scn news india

धनराज साहू ब्यूरो रिपोर्ट

  • ग्राम रक्षा समिति के सदस्यों के सहयोग से पुलिस ने गोवंश से भरा वाहन पकड़ा 
  • फरार आरोपियों का पुलिस कर रही तलाश।
  • रुकने का नाम नही ले रही है गोवंश तस्करी।

भैंसदेही थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम सावलमेढा मे बिती रात लगभग देड़ बजे क्रूरता पूर्वक भरे गए गो वंश से भरे वाहन क्र. MP04 GB 3587 को ग्राम रक्षा समिति के सदस्यों के सहयोग से पुलिस द्वारा पकड़ा गया। बताया जाता है कि उक्त वाहन बीती रात बैतुल-आठनेर के रास्ते से आठनेर होते हुये महाराष्ट्र कत्तल खाने जा रहा था। लेकिन रात्री मे आठनेर पुलिस के एसआई वर्मा जी पुलिस टीम के साथ गस्त कर रहे थे। उसी दौरान उन्होंने उक्त वाहन को रोकने का प्रयास किया किन्तु ड्राइवर ने वाहन को तेज गति से वहां से भगा लिया। सूत्रों के अनुसार अचानक से उस गाडी ने इतनी तेज रफ्तार पकड ली थी कि उसको पकडना बडा मुश्किल हो रहा था। लेकिंन वर्मा जी ने अपना हौसला नही खोते हुये उस गाडी का लगातार पिछा किया। लेकिन गाडी का ड्राइवर लहराते हुए गाडी चला रहा था उसको पकड़ पाने में परेशानी जा रही थी। लेकिन एसआई वर्मा जी को लगा की गाडी सीधे गुदगाव कीं ओर जाएगी इसलिये तुरंत उन्होंने थाना भैसदेही को भी इसकी सूचना दी। सूचना मिलते ही भैंसदेही पुलिस की टीम भी तत्काल गुदगांव चौपाटी की ओर रवाना हुई ताकि उक्त गोवंश से भरे वाहन को गुदगांव बस स्टैंड पर पकड़ा जा सके। लेकिन जानवर से भरी गाडी के ड्राइवर ने रास्ता बदल दिया। वह बाकुड होते हुये सीधे सावलमेढा होते हुए महाराष्ट्र परतवाडा कत्तल खाने जाना चाह रहा था। लेकिन वर्मा जी ने अपनी सूझ- बूझ से सावलमेढा के ग्राम रक्षा समिती को सूचना दी और सूचना मिलते ही समिती के सभी सदस्य जमा हो गए और वाहन को रोकने कीं तैयारी मे लग गए। पुलिस एवं रक्षा समिति के सदस्यों को देखकर वाहन के ड्राइवर ने गाड़ी को एक तरफ खड़े कर अंधेरे का फायदा उठाकर वहां से तत्काल फरार हो गए। पुलिस एवं ग्राम रक्षा समिति के सदस्यों के सहयोग से गो वंश की जान बचा ली गई। आठनेर थाना प्रभारी श्री जयंत मर्सकोले भी तुरंत सावलमेढा घटना स्थल पर पहुच गए थे। और पुलिस थाना भैसदेही की भी टीम मौके पर पहुंच चुकी थी। भैंसदेही पुलिस ने वाहन जप्त कर पशु अत्याचार अधिनियम के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है तथा पुलिस सरगर्मी से आरोपियों की तलाश में जुट गई है। वाहन में ठूस ठूस कर भरे गए गोवंश को पूर्णा गौशाला भेजा गया है। इस दौरान एएसआई विनोद रघुवंशी, उज्जवल दुबे, राजू उईके सहित पुलिस टीम एवं ग्राम रक्षा समिति के सदस्य उपस्थित थे।