गर्भवती महिलाओं को आवश्यकता होने पर बिना एक्सचेंज के भी मिलेगा ब्लड : कलेक्टर

Scn news india

कामता तिवारी
संभागीय ब्यूरो रीवा
Scn news india

रीवा-कलेक्ट्रेट सभागार में महिला बाल विकास एवं स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त बैठक मे कलेक्टर मनोज पुष्प ने निर्देश दिए कि जिले के स्वास्थ्य सूचकांकों में मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य में सुधार लाना सर्वाधिक प्राथमिकता का कार्य रहेगा।

कलेक्टर ने निर्देशित करते हुए कहा कि फील्ड का सभी अमला पूरी तन्मयता के साथ गर्भवती माताओं, कुपोषित बच्चों और मूलभूत स्वास्थ्य सुविधाओं जैसे गर्भवती का समय अनुसार पंजीयन, 4 जांचें ,हाई रिस्क की पहचान और प्रबंधन ,कुपोषित बच्चों की पहचान एवं प्रबंधन, जैसे अत्यावश्यक सेवाओं के लिए प्रयास प्रारंभ कर दें। उन्होंने समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि गंभीर एनीमिक ,उच्च रक्तचाप से ग्रस्त गर्भवती माताओं एवं हाई रिस्क गर्भवती महिलाओं के सुरक्षित प्रसव के प्रबंधन से ही मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम किया जा सकता है । जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि गर्भवतियों के चिन्हाकान एवं प्रबंधन के लिए विशेष प्रोटोकॉल निर्धारित करते हुए उन्हें विशेष स्वास्थ्य सुविधाएं आयरन सुक्रोज एवं आवश्यकता पड़ने पर ब्लड चढ़ाने के लिए भी व्यवस्था सुनिश्चित करे ।

कलेक्टर पुष्प ने रीवा स्वास्थ विभाग को मातृत्व सेवाओं में पूरे प्रदेश में द्वितीय स्थान आने पर बधाई दी और कहा कि हमें सेवाओं को और बेहतर करते हुए प्रथम स्थान अर्जित करना है । टीकाकरण कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए कलेक्टर पुष्प में निर्देशित किया कि मई के अंतिम सप्ताह में विशेष अभियान चलाकर छूटे हुए सभी हितग्राहियों को आवश्यक टीका, प्रिकॉशन डोज, को- वैक्सीन की दूसरी डोज, एवं कार्वे-वैक्स वैक्सीन की दूसरी डोज प्रदाय की जानी है ,जिसके लिए कार्य योजना बनाकर शिक्षा विभाग महिला एवं बाल विकास विभाग ग्रामीण विकास विभाग के साथ समन्वय कर ज्यादा से ज्यादा हितग्राहियों को लाभान्वित करना है।

पोषण पुनर्वास केंद्रों में अप्रैल के महीने में बच्चो की कम उपस्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कलेक्टर पुष्प ने कहा कि बृहद अभियान चलाकर बच्चों का वजन किया जाए और अति कुपोषित बच्चों को जिले के पोषण पुनर्वास केंद्रों में ले जाकर उपचार कराया जाए । कलेक्टर श्री पुष्प ने डीपीओ श्रीमती प्रतिभा पांडेय को निर्देशित करते हुए कहा कि सभी सेक्टर सुपरवाइजर ,सीडीपीओ इस सप्ताह विशेष प्राथमिकता से अति कुपोषित बच्चों को प्रबंधन को महत्व देते हुए उन्हें पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती कराएं, जिस की समीक्षा अगले सप्ताह की जाएगी।

स्वास्थ्य कार्यक्रमों की अपेक्षित प्रगति ना पाए जाने पर ब्लॉक हनुमना, सिरमौर, जवा एवं रायपुर के बीएमओ को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए।

सीईओ जिला पंचायत स्वप्निल वानखेड़े ने नियमित समीक्षा कर आकांक्षी ब्लॉक में जवा सिरमौर एवं हनुमना में अपेक्षित प्रगति लाने के निर्देश दिए साथ ही कॉल सेंटर 1075 की सुविधाओं को मजबूती देने के लिए आवश्यक मानव संसाधन उपलब्ध कराने के लिए भी निर्देश दिए गए।

बैठक में डॉ एन एन मिश्रा सीएमएचओ , डॉ संजय सिंह ,डॉ सुनील अवस्थी ,श्रीमती अर्पिता सिंह श्रीमती प्रतिभा पांडेय एवं महिला एवं बाल विकास के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे!