10 वर्ष की मासूम माहि केवट भीषण गर्मी मे कर रही है नर्मदा परिक्रमा

Scn news india

ओमकार पटेल तहसील ब्यूरो 

मंडला- उम्र तो है स्कूल का बैग थामने की लेकिन प्रतिज्ञा ऐसी की बड़ी उम्र के लोग भी 100 बार सोचें,लेकिन जब इरादे मजबूत हों तो हर संकल्प बहुत छोटा लगने लगता है 10 वर्ष की मासूम जिन्हें अभी दुनियादारी की समझ भी नहीं है, बचपन की दहलीज पर इस नन्ही बेटि को मां नर्मदा से ऐसी लगन लगी की वो सबकुछ छोड़ कर पैदल नर्मदा परिक्रमा पर निकल पड़ी हैं। जबकि गर्मी का आलम यह कि पारा 40 के ऊपर, अपने घर में जब लोग एसी कूलर व पंखे के सामने डटे रहते हैं तब तक यह नर्मदा जी की नन्ही भक्त 20 से 25 किलोमीटर का सफर पैदल तय कर लेती है।

– मिलिए इस माही केवट से जिसकी उम्र 10 साल है वो अपने पिता की बीमारी ठीक होने के बाद नाना नानी के साथ नर्मदा परिक्रमा कर रही है। माही को नर्मदा अष्टक व हनुमान चालीसा कंठस्थ है जब माही मंत्रोच्चार करती है तो उसे सुनकर लोग दंग रह जाते हैं। माही खरगोन जिले के नवाघाट खेड़ी गांव की रहने वाली है जो अपने नाना नानी के साथ नर्मदा परिक्रमा कर रही है। माही के नाना कोमल केवट बताते हैं की चार साल पहले माही के पिता लाइलाज बीमारी लकवा से ग्रसित हो गए थे जिनका बहुत इलाज भी कराया लेकिन उनको आराम नहीं मिला।

करीब एक साल पहले माही के नाना नानी ने नर्मदा से मन्नत मांगी थी की अगर माही के पिता की तबियत ठीक हो जायेगी तो वे नर्मदा परिक्रमा करेंगे और मन्नत के कुछ दिनों बाद ही तबियत में सुधार हुई तो नाना नानी नर्मदा परिक्रमा पर निकल पड़े और उनके साथ माही भी जाने की जिद करने लगी और अपने पिता की तबियत में सुधार के खातिर माही नर्मदा परिक्रमा पर निकल पड़ी। माही अब तक करीब 2 हजार किलोमीटर पैदल चल चुकी है। माही पढ़लिखकर डॉक्टर बनना चाहती है। माही के नर्मदा परिक्रमा की वजह जानकर लोग भावुक नजर आते हैं  .