16 मई से बदलेगा मौसम, एक्टिव होगा नया पश्चिमी विक्षोभ, लू का रेड अलर्ट, 15 जून तक मानसून की दस्तक

Scn news india
रविवार 15 मई की रात से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से हवाओं का रुख उत्तर पश्चिमी होते ही 16 मई से तापमान में कमी आएगी
भोपाल। MP Weather Update Today 14 May 2022. 16 मई से मध्य प्रदेश का मौसम फिर बदलने वाला है। नए पश्चिमी विक्षोभ के असर से आंशिक रूप से बादल छा सकते हैं। कहीं-कहीं बूंदाबादी होने की भी संभावना है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज शनिवार 14 मई को 25 जिलों में हीट वेव का रेड अलर्ट जारी किया है। इधर, 16 मई को ईरान व अफगानिस्तान में एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा और इसके असार से हवाएं की दिशा भी बदलेगी।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में नौगांव 48 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।खजुराहो, नौगांव, राजगढ़, सतना, सागर, दमोह, भोपाल, खंडवा, खरगोन, शाजापुर, दतिया, गुना और ग्वालियर में हीट वेव का असर देखने को मिला।
आज शनिवार को ग्वालियर, चंबल और रीवा संभागों के जिलों के साथ जबलपुर, नीमच, मंदसौर, रतलाम, राजगढ़, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, उज्जैन,आगर, शाजापुर, विदिशा और भोपाल में लू का रेड अलर्ट जारी किया गया है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार,रविवार 15 मई की रात से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से हवाओं का रुख उत्तर पश्चिमी होते ही 16 मई से तापमान में कमी आएगी और 18 मई तक तापमान 41 डिग्री के आसपास रहेगा।इसके बाद 19 से 26 मई तक इंदौर गर्मी का आखिरी दौर रहेगा लेकिन लू नहीं चलेगी। 28 मई के बाद प्री मानसून की गतिविधियां बढ़ने लगेंगी।जबलपुर सहित संभाग के जिलों में आने वाले दिनों में कहीं-कहीं बूंदाबांदी हो सकती है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, 24 मई की मध्यरात्रि के बाद 2 बजकर 33 मिनट पर सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। सूर्य के रोहणी नक्षत्र में प्रवेश के साथ ही 25 मई से नौतपा शुरू हो जाएगा, जो 2 जून तक चलेगा।वही 15-16 मई से अगले पश्चिमी विक्षोभ के प्रभावी होने की संभावना बनी हुई है। इसके असर से अगले शनिवार को जबलपुर सहित मंडला, बालाघाट, सिवनी सहित आसपास के जिलों में कहीं-कहीं बौछारे पड़ सकती हैं।
15 जून तक आएगा मानसून
भारतीय मौसम विभाग की मानें तो 26 मई तक मानसून केरल के तट पर पहुंच जाएगा। वही 15 जून तक इंदौर में पहुंचने की संभावना है। आमतौर पर मध्य प्रदेश में मानसून की तारीख 1 जून से 30 सितंबर तक होती है। अलग-अलग जिलों में अलग-अलग तारीखों पर मानसून पहुंचता है । चुंकी इस साल केरल के तट पर 4-5 दिन पहले मानसून के पहुंचने की संभावना है अतः मध्यप्रदेश में भी 4-5 दिन पहले मानसून आ सकता है।पहली बारिश 10 से 15 जून के बीच हो सकती है।