संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने विधायक धरमूसिंग सिरसाम को सौंपा ज्ञापन

Scn news india

धनराज साहू भैंसदेही ब्यूरों

  • संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने विधायक धरमूसिंग सिरसाम को सौंपा ज्ञापन।
  • विधायक ने विधानसभा में मामले को उठाने का दिया आश्वासन

भैंसदेही:- मध्यप्रदेश में अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर चरणबद्ध आंदोलन कर रहे संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी,संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के बैनर तले प्रांतीय आव्हान पर 10 मई से काला दिवस एवं हाथों पर काली पट्टी बांधकर निरंतर अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे है। इसी दौरान भैंसदेही के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने क्षेत्रीय विधायक श्री धरमू सिंग सिरसाम को अपनी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। और कहा कि 2018 से वे निरंतर अपनी 3 सूत्रीय मांगों को लेकर सरकार से मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार द्वारा उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जा रहा है। आप क्षेत्रीय विधायक होने के नाते हमारी इन 3 सूत्रीय मांगों को प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान तक हमारी मांगों को पहुंचाने का कार्य करेंगे तो मेहरबानी होगी। ज्ञापन देने वालों में संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ भैंसदेही के अध्यक्ष डॉ तुलसीराम, संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ की प्रवक्ता रेशमा खान, डॉक्टर शोएब दीवान, डॉक्टर साबले, संजय धोटे, रेखा धुर्वे, ललिता धुर्वे ,ललिता बिसोने एवं समस्त संविदा कर्मचारी एवं अधिकारी उपस्थित रहे।

संविदा स्वास्थ्य कर्मियों की ये है प्रमुख मांगे
————————-
संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ की प्रवक्ता रेशमा खान ने बताया कि 5 जून 2018 की संविदा नीति के तहत संविदा कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों की भांति 90% वेतनमान देने एवं सपोर्ट स्टाफ जिनको आउटसोर्स में कर दिया गया है और समस्त निष्कासित कर्मचारियों को एनएचएम में वापस किए जाने की मांग की गई है।

कांग्रेस विधायक श्री धरमू सिंग सिरसाम ने कहा कि संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने मुझे ज्ञापन दिया है। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने 2018 के पूर्व कहा था कि वेतनमान जो रेगुलर कर्मचारियों को दिया जा रहा है वही संविदा कर्मचारियों को भी दिया जाएगा। साथ ही कुछ विभागों को समान वेतन दिया जा रहा है लेकिन संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। पूरे मामले को लेकर हमारे प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात कर इन मांगों को विधानसभा में उठाने की मांग करूंगा।