शिकारियों से हुई मुठभेड़ में तीन पुलिस कर्मी शहीद, एक शिकारी भी मारा गया, अब होगा बाकी का इनकाउंटर

Scn news india

मनोहर

मध्य प्रदेश के इतिहास मे एक और काला अध्याय शामिल हो गया जहाँ कर्तव्य की बेदी पर डटे पुलिस जवानों को अपराधियों ने गोली का निशाना बना कर हत्या कर दी । घटना में तीन  पुलिसकर्मियों की दुःखद मौत हो गई है।  जिसके बाद हरकत में आयी सरकार ने ग्वालियर  IG अनिल शर्मा को हटा दिया  है। घटना गुना के आरोन की है जहाँ पुलिस को सुचना मिली थी की शहरोक के जंगल में 4-5 बाइक से हथियार बंद बदमाश जाते हुएदेखे गए  । इनकी घेराबंदी के लिए 3-4 पुलिस टीम लगाई गई थीं।  पुलिस ने घेराबंदी की तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की।

जिसमे  शिकारियों से हुई मुठभेड़ में तीन पुलिसकर्मियों को  गोली लगी घटना में उनकी मौत हो गई वहीँ  पुलिस टीम में शामिल ड्राइवर गंभीर रूप से घायल हो गया । वहीँ  पुलिस की जवाबी फायरिंग में शिकारी नौशाद मेवाती मारा गया है। SI राजकुमार जाटव के हाथ में गोली लगने के बाद भी उन्होंने कई राउंड फायर किए।जानकारिनुसार घटना  तड़के सुबह  3 से 4 बजे के बीच की बताई जा रही है।

इधर घटना को लेकर मुख्यमंत्री ने उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। घटनास्थल पर देरी से पहुंचने पर ग्वालियर के IG अनिल शर्मा को हटा दिया गया है। मध्यप्रदेश सरकार ने तीनों पुलिसकर्मियों के परिवार को 1-1 करोड़ का मुआवजा देने का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अपराधियों की पहचान हो गई है। पुलिस फोर्स को भेजा गया है। हमलावरों को पुलिस एनकाउंटर में ढेर करने की तैयारी में है। वन अमले ने मौके से चार काले हिरणों और एक मोर का शव भी बरामद किया है , वन्य जीवों के शवों को भी पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

ऐसी कार्रवाई होगी, जो नजीर बने

बदमाशों के हमले में तीन पुलिसकर्मियों के शहीद होने की घटना पर गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं घटना की मॉनिटरिंग कर रहे हैं और इस मामले में ऐसी कार्रवाई होगी, जो दूसरे अपराधियों के लिए नजीर बने। डॉ मिश्रा ने कहा कि आरोन थाना क्षेत्र में 7-8 मोटरसाइकिल सवार बदमाशों की सूचना पुलिस को मिली थी। पुलिस ने बदमाशों को चारों तरफ से घेर लिया, जिस पर बदमाशों ने गोलीबारी शुरु कर दी। उन्होंने कहा कि अपराधी कोई भी हो पुलिस से बच के कहीं नहीं जा सकेगा।