4 वेदर सिस्टम एक्टिव, 9 जिलों में गरज चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार, 3 दिन बाद फिर बदलेगा मौसम

Scn news india

मनोहर 

  • 4 वेदर सिस्टम एक्टिव, 9 जिलों में गरज चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार, 3 दिन बाद फिर बदलेगा मौसम
  • छिंदवाड़ा, अनूपपुर, सिवनी, कटनी, सतना, रीवा, सीधी, सिंगरौली और जबलपुर में गरज चमक के साथ बौछार की संभावना है।
भोपाल। MP Weather Update Today 4 May 2022.मध्य प्रदेश में प्री मानसून एक्टिविटी के संकेत मिलने लगे है। पूर्वी मध्यप्रदेश में प्री-मानसून गतिविधियां के चलते सोमवार से ही मौसम बदला बदला सा है, यहां बारिश के साथ आंधी चल रही है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Department) ने आज बुधवार 4 मई को 9 जिलों में गरज चमक के साथ बौछार तो 9 जिलों में बिजली गिरने और चमकने का येलो अलर्ट जारी किया है। वही 18-20 किमी/घंटा की रफ्तार से हवा चल सकती है।5 मई को फिर मौसम में बदलाव देखने को मिल सकते है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज बुधवार 4 मई 2022 को 9 जिलों में गरज चमक के साथ बौछार की चेतावनी और 9 जिलों में ही लू का येलो अलर्ट जारी किया गया है ।छिंदवाड़ा, अनूपपुर, सिवनी, कटनी, सतना, रीवा, सीधी, सिंगरौली और जबलपुर में गरज चमक के साथ बौछार की संभावना है। वही छिंदवाड़ा, अनूपपुर, सिवनी, कटनी, सतना, रीवा, सीधी, सिंगरौली और जबलपुर में जिलों में बिजली गिरने और चमकने के साथ धूल भरी हवा का येलो अलर्ट जारी किया गया है।पिछले 24 घंटे में सबसे अधिकतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस नौगांव में दर्ज किया गया।जबलपुर संभाग में कहीं कहीं हल्की बारिश दर्ज की गई ।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में एक साथ 4 वेदर सिस्टम एक्टिव है। एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान के आसपास सक्रिय है। दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात मौजूद है, पंजाब से दक्षिणी उत्तर प्रदेश से होकर मणिपुर तक एक ट्रफ लाइन बनी हुई है, विदर्भ से लेकर तमिलनाडु तक भी एक ट्रफ लाइन मौजूद है, ऐसे में वातावरण में नमी आ रही है और मध्य प्रदेश में कहीं-कहीं आंशिक बादल बने हुए हैं। 5 मई को पश्चिमी विक्षोभ के आगे बढ़ने के बाद गर्मी के तेवर फिर तीखे होने के आसार है।
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, 4 मई को दक्षिण अंडमान सागर के आसपास के क्षेत्रों में एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बन रहा है, जिसके प्रभाव में 6 मई के आसपास उसी क्षेत्र में एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है।इस चक्रवात के अराकान तट के साथ आगे बढ़ने के आसार है, इसे‘असानी’ कहा जाएगा। 7 मई से एक चक्रवात बंगाल की खाड़ी में में बनने जा रहा है,ऐसे में वह 9 व 10 मई तक बांग्लादेश पहुंचेगा, जिसका सबसे ज्यादा असर पूर्वी मध्यप्रदेश पर पड़ेगा और बारिश होगी।एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ 11 मई को भारत की तरफ आ रहा है। उसका असर उत्तर भारत में सबसे ज्यादा पड़ेगा और MP के मौसम में भी इसका बदलाव दिखाई दे सकता है।
हफ्ते का हाल
एमपी मौसम विभाग के अनुसार, ग्वालियर में 6 मई तक पश्चिमी विक्षोभ का असर रहेगा और फिर 7 मई के बाद पश्चिमी हवा की शुरुआत होगी, जिसके चलते 10 मई के बाद लू का असर देखने को मिलेगा।यह संभावना जताई जा रही है कि जून के पहले हफ्ते के बाद गर्मी का असर कम होना शुरू हो जाएगा। 10 जून के बाद मध्य प्रदेश से किसी भी जिले में तापमान 39 डिग्री सेल्सियस से ऊपर नहीं होगा।15 जून के बाद या आसापास मानसून की दस्तक हो सकती है।