हम बिखरे रहे तो समाज का अस्तित्व खतरे में सफलता के लिए एकजुट रहे तो भविष्य निखर जाएगा

Scn news india

ओमकार पटेल तहसील ब्यूरो 
किसी भी कार्य या फिर उद्देश्य को सफल बनाने के लिए समरसता या फिर एकजुट होना नितांत आवश्यक है यदि हम बिखर गए तो हमारे समाज का अस्तित्व ही खत्म हो जाता है! स्वभाविक है यदि हम एकजुट रहे तो हमारा भविष्य निखर जाएगा हमारा उद्देश्य पनका समाज को उनसे छीना गया अधिकार वापस दिलाना है मकसद साफ है हमारे पूर्वज आदिवासी थे और हम सब आदिवासी ही हैं! मगर सरकार हमें हमारे अधिकार से वंचित रख कर समाज एवं आने वाले पीढ़ी के अस्तित्व को कटघरे में रखा है 1971 तक हमारा समाज आदिवासी (एस टी) की केटेगरी में आते रहे हैं और आज भी 11 जिलों में आदिवासी ही हैं! मगर मंडला जबलपुर बालाघाट डिंडोरी सिवनी आदि जिलों में ओबीसी के केटेगरी में पनका समाज को रखा जाना सरकार का इस समाज के साथ सौतेला व्यवहार नहीं तो और क्या है ! आज भी अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, सीधी, सिंगरौली, छतरपुर, सतना, रीवा, दतिया के पनका समाज के लोग आदिवासी हैं ! समाज की उन्नति और विकास के हित में मांग साफ है पर सरकार का मुंह फेर लेना परितोषिक और लचर व्यवस्था को परिलक्षित करता है इसका परिणाम सरकार को भुगतना ही होगा ?


अध्यक्ष पनका समाज मवई

*पनका समाज मंथन आमंत्रण पर घोठा में ब्लॉक कमेटी के अध्यक्ष राजकुमार मोगरे एवं वरिष्ठ जनों के मार्गदर्शन में 8 मई दिन रविवार को विशाल समाज के बीच माध्यमिक शाला प्रांगण में बृहद्द बैठक का आयोजन किया गया है प्रांतीय स्तर की इस बैठक में पनका उत्थान समिति के मार्गदर्शन मैं सुव्यवस्थित तरीके से कार्यक्रम संपन्न होगा जिसमें प्रांतीय स्तर, के संभाग स्तर, के जिला एवं ब्लॉक, स्तर के पदाधिकारी व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे! और उनका मार्गदर्शन प्राप्त होगा !