एक नहीं, एक लाख एफआईआर दर्ज हो जाएं… सांप्रदायिक उन्माद के खिलाफ डरूंगा नहीं, बोलता रहूंगा : दिग्विजय सिंह

Scn news india
दिग्विजय ने कहा, ‘सांप्रदायिक उन्माद के खिलाफ बोलने पर उनके खिलाफ कितने ही मामले दर्ज हों, उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने बुधवार को कहा कि वह सांप्रदायिक उन्माद के खिलाफ बोलते रहेंगे, भले ही उनके खिलाफ एक नहीं, एक लाख एफआईआर दर्ज हो जाएं। सिंह ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि वह डरने वाले नहीं हैं।
दिग्विजय ने कहा, ‘सांप्रदायिक उन्माद के खिलाफ बोलने पर उनके खिलाफ कितने ही मामले दर्ज हों, उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैंने ट्वीट के माध्यम से सवाल ही तो पूछा है और जो फोटो खरगोन का नहीं था, उसे ‘डिलीट’ कर दिया।’
दिग्विजय के ट्वीट पर शिवराज ने घेरा
आपको बता दें कि सिंह ने मंगलवार को खरगोन में सांप्रदायिक हिंसा को लेकर अनेक ट्वीट किए थे। एक ट्वीट में उन्होंने एक फोटो भी लगाया था, जिस पर विवाद हुआ और उसे बाद में हटा दिया गया। इस फोटो में दिख रहा था कि भगवावस्त्रधारी कुछ लोग अन्य धर्म के एक धार्मिकस्थल पर भगवा लगा रहे हैं। इस ट्वीट को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद ट्वीट के जरिए कहा कि यह फोटो मध्यप्रदेश का नहीं हैं। इसके बाद भाजपा नेताओं की दिनभर लगातार तीखी प्रतिक्रियाएं आईं और शाम को एक व्यक्ति की शिकायत पर सिंह के खिलाफ भोपाल पुलिस की क्राइम ब्रांच ने सांप्रदायिक उन्माद फैलाने के प्रयास से जुड़ी धाराओं में मामला दर्ज कर लिया।
दिग्विजय को घेरने में जुटी भाजपा
दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल के अलावा ग्वालियर, जबलपुर, नर्मदापुरम, बैतूल और सतना में भी प्राथमिकी दर्ज की गई हैं। माना जा रहा है कि इस मुद्दे को लेकर भाजपा नेता कांग्रेस के राज्यसभा सांसद को पूरी तरह घेरने में जुट गए हैं। दूसरी ओर भाजपा नेता और कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर सिंह के खिलाफ टिप्पणियां कर रहे हैं। भाजपा नेता और कार्यकर्ता सिंह का ट्विटर अकाउंट बंद करवाने की मांग भी कर रहे हैं। इनका तर्क है कि सिंह पहले भी भ्रमित करने वाले ट्वीट कर चुके हैं।