आज होगी संत श्री भिखारी दास महाराज जी की मूर्ति की स्थापना

Scn news india

 राजेश साबले ब्यूरो 

संत श्री भिखारी दास महाराज जी के ब्रह्मलीन हो जाने के बाद उनके सभी भक्तों ने संत भिखारी दास महाराज जी की मूर्ति की स्थापना करने का मन बनाया था इसी संदर्भ में सभी भक्तों ने संत भिकारी दास महाराज जी की जयपुर से एक मूर्ति बना कर लाई है उनके सभी अनुयायियों ने तय किया कि संत श्री विकारी दास महाराज जी की जन्म दिवस पर महाराज जी की मूर्ति की स्थापना करेंगे। मूर्ति स्थापना की 2 तारीख से तैयारियां चालू है जिसमें 2 तारीख को ग्राम रावा में कलश यात्रा निकाली गई 3 तारीख को हवन पूजन का कार्यक्रम संपन्न हुआ और कल दिनांक 4 अप्रैल को पारस डोह  में संत भिखारी  दास महाराज जी की मूर्ति की स्थापना होना है।

बता दें कि संत रविदास महाराज जी का जन्म 4 अप्रैल को 1923 को हुआ था मुलताई ब्लॉक के आष्टा गांव के निवासी महाराज में 24 वर्ष की अल्पायु में पूर्ण ज्ञान प्राप्त कर जगत के कल्याण के लिए निकल पड़े संत श्री विकारी दास महाराज जी संत श्री पीतांबर दास महाराज के गुरु दीक्षा ली थी श्री विकारी दास महाराज ऐसे संत हैं जिन्होंने अपनी साधना से जो ज्ञान प्राप्त किया उसे भजनों के रूप में मानव कल्याण के लिए प्रस्तुत किया।

हिंदी और मराठी भाषा में लिखित निजी अनुभवी ग्रंथ के भजनों को पढ़कर गाकर सुनकर व्यक्ति चाहे जी ज्ञान प्राप्त कर सकता है जिसे ज्ञान प्राप्त हो जाए फिर उसे मोक्ष प्राप्ति के लिए कोई कठिनाई नहीं रह जाती है। श्री महाराज जी के सब प्रयास से एक न एक दिन मानव समाज ज्ञान प्राप्त कर परम लक्ष्य मोक्ष को प्राप्त करेगा ऐसी संत भिखारी दास महाराज जी की इच्छा थी। मां ताप्ती के इस पावन पर्व पर पवित्र तीर्थ स्थल पारसडोह  संत भिखारी दास महाराज जी की मूर्ति की स्थापना होना है जहां हजारों की संख्या में भक्त जमा हो गए हैं अनेक गांव के लोग पारसडोह  में जमा हो रहे हैं।