विंध्यप्रदेश स्थापना दिवस-सब मिल जलाएं एक दीपक अपने विन्ध्य के नाम : नारायण त्रिपाठी

Scn news india

दिवाकर पांडे तहसील ब्यूरो मैहर 

  • संत महात्मा कथाकार पुजारियों की विंध्य जनजागरण में है महत्वपूर्ण भूमिका
  • सब मिल जलाएं एक दीपक अपने विन्ध्य के नाम : नारायण त्रिपाठी

मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने विंध्य क्षेत्र के संत, महात्माओं, कथाकारों, भागवताचार्यों व पुजारियों से विंध्यप्रदेश के निर्माण व जनजागरण में महती भूमिका निभाने की अपील करते हुए कहा है कि आप सब के प्रयासों और साधुवाद से ही विंध्य प्रदेश का पुनर्निर्माण संभव हो सकेगा. विंध्य प्रदेश के जन जागरण में संत महात्माओं की बड़ी भूमिका है. उन्होंने संत महात्माओं व विंध्यप्रदेश प्रेमियों से अपील करते हुए कहा है कि पुण्यसलिला मां नर्मदा, पतितपावनी मां पयस्वयनी, ज्ञान की देवी मां शारदा, मां विंध्यवासिनी की भूमि एवं पतिव्रता माता अनुसूइया वैदेही माता सीता जैसी मातृशक्ति की तपोस्थली चित्रकूट जिला सतना जहां दशरथपुत्र श्री राम मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम बने, जहां तुलसीदास जी ने महाग्रंथ श्रीरामचरितमानस की रचना की ऐसी तपोभूमि विंध्य के स्थापना दिवस 4 अप्रैल 2022 को ‘जलायें एक दीपक अपने विंध्य के नाम’ अभियान के अन्तर्गत प्रत्येक परिवार को प्रेरित करें कि सब अपने घर पर एक दीपक प्रज्ज्वलित करें तथा सभी ईष्ट देवी देवताओं को नमन कर विंध्यप्रदेश के निर्माण की कामना करें. केन्द्र व राज्य सरकार को प्रभु श्रीराम प्रेरणा दें कि छोटे राज्यों की अवधारणा के अनुरूप राज्य बनेंगे तो विकास गति पकड़ेगा व सत्ता का विकेंद्रीकरण होगा। उन्होंने कहा कि 4 अप्रैल 1948 को भारत वर्ष की स्वतंत्रता पश्चात सेंट्रल इंडिया एजेंसी ने देश के पूर्वी भागों की 35 रियासतों /प्रिंसली स्टेट को मिलाकर बघेलखंड एवं बुंदेलखंड राज्यों के संघ के रूप में विंध्यप्रदेश का पुनर्गठन किया था। कमजोर नेतृत्व एवं राजनैतिक इच्छाशक्ति की कमी के कारण इस राज्य का विलय मध्यप्रदेश में कर दिया गया, पुनः इस राज्य के पुनर्निर्माण करना नए राज्य की मांग नहीं अपितु इसका पुनर्निर्माण होगा। विंध्य प्रदेश पुनर्निर्माण से इस वंचित इलाके में आत्मनिर्भरता बढ़ेगी, नवनिर्माण से विकास होगा, नए अवसर और नए रोजगार सृजित होंगे. पर्यटन, परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं आधुनिक नवाचार को भी बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि अपनी मातृभूमि के लिए सभी जन, परिवार, समूह, मोहल्ला, वार्ड, शहर, ग्राम एवं विधानसभा क्षेत्रों में 4 अप्रैल 2022 सायंकाल 7:30 बजे एक दीपक अपने विंध्य के नाम जलायें व आसपास के मंदिरों में सुंदरकाण्ड पाठ का कार्यक्रम आयोजित करें।

Live Web           TV