मेरा भारत स्वर्णिम भारत अभियान से युवा हो रहे सशक्त – बी के डॉ. रीना

Scn news india

हर्षिता वंत्रप भोपाल 

भोपाल -भारतीय संस्कृति के मूलभूत गुणों को उजागर करके देश को विश्व गुरु का ताज पहनने में युवा वर्ग की अहम भूमिका हो सकती है। साइंस के आधुनिक युग में युवा वर्ग ने वैज्ञानिक उपकरणों का उपयोग कर समय और शक्ति की बचत करते हुए चौगुनी प्रगति की है। मगर आंतरिक विज्ञान (आध्यात्मिकता) के आभाव में युवा पीढ़ी में निराशा, व्यसन, नकारात्मकता एवं दुखों का अंधकार बढ़ता जा रहा है। राजयोग द्वारा युवाओं में श्रेष्ठ चरित्र का निर्माण करना है | उक्त विचार प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय वि‌वि गुलमोहर कॉलोनी सेवाकेंद्र प्रभारी बी की डॉ रीना बहन ने मेरा भारत स्वर्णिम भारत अखिल भारतीय बस अभियान के भोपाल पहुचने पर रोहित नगर सेवाकेंद्र में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त किये | उन्होंने बताया कि बस यात्रा का उद्देश्य राजयोग द्वारा युवाओं को आध्यात्मिक मूल्यों और चरित्र निर्माण के लिए प्रोत्साहित करना है। स्वच्छ-स्वस्थ भारत के लिए लोगों की सक्रिय भूमिका को बढ़ावा देना है। सकारात्मकता के जरिए सकारात्मक परिवर्तन के लिए युवा प्रतिनिधि बनकर उनको प्रेरित करना है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कुणाल चौधरी ने कहा कि ब्रह्मकुमारिज द्वारा युवा सशक्तिकरण के लिए किये जा रहे कार्य सराहनीय हैं | ब्रह्मकुमारिज में आकर युवाओं को नकारात्मकता से दूर रह्ने की शिक्षा मिलती है।

युवाओं की नकारात्मक सोच को बदल कर उनमें सकारात्मक सोच पैदा करना और युवाओं को नशे की आदत से छुड़ाने के उद्देश्य से मेरा भारत स्वर्णिम भारत अखिल भारतीय प्रदर्शनी बस अभियान गुलमोहर कॉलोनी भोपाल पहुंचा है। उन्होंने बताया कि 13 अगस्त 2017 को अहमदाबाद से शुरु हुई यह यात्रा अब तक देश के 26 राज्यों में जाकर 12 लाख से ज्यादा युवाओं को लाभान्वित कर चुकी है। उन्होंने बताया कि शरीर के साथ-साथ मन की स्वच्छता भी जरुरी है। एक प्रश्र के जवाब में उन्होंने बताया कि देश के सभी राज्यों में ग्राम स्तर तक युवाओं को जागरूक करने के बाद यह यात्रा 13 अगस्त 2020 को माऊंट आबू में संपन्न होगी।

इस अवसर पर बस अभियान यात्रियों का जोरदार स्वागत किया गया | अभियान यात्रियों द्वारा ब्यसन मुक्ति नृत्य नाटिका प्रस्तुत कर सबको व्यसनों से दूर रहने की शिक्षा दी गई |

कार्यक्रम में कुमारी श्री, कुमारी डाली , कुमारी कुमकुम, कुमारी पूजा कुमारी आरती, कुमारी ईशा द्वारा सुन्दर सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ दी गई|

संस्था के बी के रावेंद्र भाई ने सभी का स्वागत किया

इसके पूर्व प्रातः गुलमोहर कॉलोनी से रोहित नगर तक सुन्दर प्रभात फेटि के माध्यम से व्यसन मुकी एवं सकरात्म का सन्देश दिया गया |

मेरा भारत स्वर्णिम भारत राष्ट्रीय अभियान के बारे में
किसी भी प्रकार की जागरूकता, सुविधाओं, सीखों को जनता तक पहुंचने में समय लगता है। लोगों को स्वयं और समाज में बदलाव के लिए चीजों को समझने, आत्मसात करने और स्वीकार करने में समय लगता है। वर्तमान समय की आवश्यकता के साथ, युवाओं को स्वच्छता, सकारात्मकता, योग और ध्यान से संबंधित जागरूकता में बड़ी भूमिका निभानी चाहिए और इसे सही तरीके से भारत के कोने कोने में ले जाना चाहिए। इसलिए, युवा दिमाग को तेज करने, उनकी सोच में रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने और into परिवर्तन एजेंटों ’को सबसे आगे लाने के लिए एक राष्ट्रव्यापी जागृति अभियान आयोजित किया गया है।

परियोजना का उद्देश्य
1. सकारात्मकता के माध्यम से युवाओं को एक परिवर्तन कारक के रूप में बढ़ावा देना
2. स्वच्छता के उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए लोगों को एक बड़ी भूमिका के लिए तैयार करना
3. राजयोग मेडिटेशन के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक मूल्यों और चरित्र निर्माण के लिए प्रेरित करना

गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए किए जाने वाले कार्य
1. स्वच्छ भारत, आध्यात्मिक मूल्यों और चरित्र निर्माण, योग और ध्यान, सकारात्मकता के विषयों पर एक विशेष रूप से डिजाइन प्रदर्शनी बस के माध्यम से प्रदर्शनियों का आयोजन।
2. आदर्श युवा रोल मॉडल दिखा रहे हैं जिन्होंने अपने व्यावहारिक जीवन में उपरोक्त अभ्यास किया है और लागू किया है।
3. सांस्कृतिक गतिविधियों, मल्टीमीडिया प्रस्तुतियों, टॉक शो, नुक्कड़ नाटकों आदि के माध्यम से उपरोक्त विषयों को बढ़ावा देना और शिक्षित करना …

वालंटियर्स
ब्रह्मकुमारियों की एक सह्योगी संस्था आरई एंड आरएफ की यूथ विंग 1985 में अपनी स्थापना के बाद से सक्रिय रूप से युवा विकास के लिए काम कर रही है। ब्रह्मकुमारियां 137 से अधिक देशों में फैली एक सामाजिक-आध्यात्मिक संस्था है।
विंग अपने उद्देश्यों की प्राप्ति की दिशा में काम करता है, जो पूरी तरह से एक लाख से अधिक स्वयंसेवकों के माध्यम से विभिन्न धर्मों, समुदायों और जातीयताओं को लेकर विभिन्न पृष्ठभूमि से खींचा गया है। इन स्वयंसेवकों में हजारों युवा शामिल होते हैं जो अपनी शिक्षा और करियर को आगे बढ़ाने के साथ-साथ ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं, एक स्वस्थ जीवन शैली का नेतृत्व करते हैं और अपने अवकाश के समय का उपयोग सामाजिक परिवर्तन पर परियोजनाओं के लिए करते हैं। वे नियमित रूप से राजयोग मेडिटेशन का अभ्यास करते हैं और सकारात्मक दृष्टिकोण और नैतिक मूल्यों को विकसित करने के लिए रिट्रीट में भाग लेते हैं।

सेवा क्षेत्र
स्कूल, कॉलेज, युवा संघ, यूथ क्लब, एनसीसी, कॉर्पोरेट्स, ट्रेनिंग सेंटर, फिटनेस सेंटर, गर्ल्स हॉस्टल, नेहरू युवा केंद्र, जेल, स्काउट एंड गाइड, एनएसएस, यूथ लर्निंग, मंदिर, गार्डन, सार्वजनिक स्थल आदि।

Leave a Reply

Your email address will not be published.