जहा बलिदान हुए मुखर्जी वो काश्मीर हमारा है, युवाओ ने किया सिनेप्लेक्स के बाहर जयघोष

Scn news india


नितिन दत्ता (वरिष्ठ पत्रकार )

तामिया- जहा बलिदान हुए मुखर्जी वो काश्मीर हमारा है। तामिया से अनेको राष्ट्रभक्त शनिवार को द काश्मीर फाइल्स देखने पहुंचे। तामिया से आज 75 राष्ट्रभक्त परासिया स्थित एस्कॉन सिनेप्लेक्स नीलकमल मॉल परासिया पहुंचे तामिया के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी उदयभान इंगले जी (विभाग वनांचल प्रमुख), कोमल सूर्यवंशी ( खंड कार्यवाह), शिव साहू जी , विजय शिवहरे, विजय सूर्यवंशी , प्रखर इंगले, जितेंद्र भलावी , निलेश बाजपई, अरुण साहू , शिवम नयकवार(इटावा), हिरदेश धुर्वे, अजय धुर्वे जी( मुत्तोर), मातृशक्तियो में श्रीमती रश्मिरानी तंतुवाय, श्रीमती किरण वाजपई,श्रीमती माधुरी इंगले,हेमलता डेहरिया,श्रीमती स्वाति सूर्यवंशी,प्रखर इंगले, कोमल सूर्यवंशी,विजय सूर्यवंशी, अशोक परतेती,विजय शिवहरे,विजय शिवहरे,विजय साहू,लक्ष्मण साहू,सुरेश धुर्वे,शिव साहू, शिव साहू हिरदेश धुर्वे,युग सूर्यवंशी रामेश्वर धरण्नवर(इटावा) ब्रजेश आम्रवंशी,सिद्धार्थ इटावा सहित अनेको 75 लोग मौजूद रहे ।कश्मीरी पंडितों की त्रासदी पर बनी फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग सिनेमा हॉल में पहुंच रहे हैं।फिल्म ने 1990 के दशक में कश्मीरी पंडितों के साथ हुए जुल्म, अत्याचार एवं त्रासदी को एक बार फिर सामने ला दिया है। 32 साल पहले कश्मीरी पंडितों के साथ घाटी में क्या हुआ, यह फिल्म विस्तार से उसके बारे में बताती है। गत 11 मार्च को रिलीज हुई फिल्म को बड़ी संख्या में लोग देखने के लिए पहुंच रहे हैं। फिल्म देखने के बाद लोग कश्मीरी पंडितों के लिए इंसाफ एवं दोषियों पर कार्रवाई की मांग करते नजर आए हैं। परासिया में ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखने के बाद दर्शकों ने मॉल में ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ के नारे लगाए।

Live Web           TV