प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के रोहित नगर सेवाकेन्द्र, मे होली महोत्सव कार्यक्रम सम्पन्न

Scn news india

हर्षिता वंत्रप 

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के रोहित नगर सेवाकेन्द्र, मे होली महोत्सव कार्यक्रम सम्पन्न हुआ 7 ब्रह्माकुमारीज, गुलमोहर कालोनी, भोपाल सेवाकेन्द्र प्रभारी बी के डॉ रीना दीदी ने होली का आध्यात्मिक रहस्य बताते हुए कहा कि मनुष्य के अंदर पाँच विकारों रूपी बुराइयाँ हैं जिनके कारण मनुष्य का जीवन दुख एवं अशान्ति से भर जाता है 7 विश्व मे अशान्ति होने का कारण भी मनुष्य के अंदर के विषय विकार हैं 7 उन्होंने होली का आध्यात्मिक रहस्य बताते हुए कहा कि होली के ३ अर्थ हैं :-

(१) होली -आर्थात हम भगवान के &ह्नह्वशह्ल;होलिए&ह्नह्वशह्ल; । तन, मन, धन, समय, स्वांस, सन्कल्प, सब भगवान के लिए है ।भगवान के दिए हुए हैं। (२) होली :-अर्थात जो बात &ह्नह्वशह्ल;होली&ह्नह्वशह्ल;सो होली । अर्थात विगत बात(श्चड्डह्यह्ल द्बह्य श्चड्डह्यह्ल)जो हो गया सो हो गया। (३)होली:-अर्थात पवित्रता( श्चह्वह्म्द्बह्ल4) द्धशद्यद्ब अर्थात द्धद्बह्य द्धशद्यद्बठ्ठद्गह्यह्य . ये तीनों ही अर्थ हमारे लिए बहुत ही कल्याणकारी हैं द्वद्गड्डठ्ठद्बठ्ठद्द द्घह्वद्यद्य हैं । हम भगवान के अनुसार जीवन जियें ।बीती बातों का चिंतन न करें।जीवन को दिव्यता से भरले।पवित्रता को अपनाए।हमारी द्रष्टि, वृत्ति कृत्ति सब आत्मिक हो।विस्व बन्धुत्व की भावना युक्त हों। ऐसी सच्ची होली मनानी हैं द्य बी के डॉ रीना दीदी ने राजयोग की अनुभूति कराकर सभी को परमात्मा से जोड़ने की विधि सिखाई 7 इस अवसर पर विशेष रूप से विश्व शांति के लिए प्रार्थना की गई 7 कार्यक्रम मे कुमारी हनी, कुमारी किट्टु, कुमारी आरती, कुमारी पूजा ने सुंदर नृत्य प्रस्तुत किए।