नए भारत का सृजन कर रही महिलाएं, सिर्फ डाक्टर, नर्स और शिक्षिका तक सीमित नही हर क्षेत्र में नारी शक्ति की अहम भूमिका

Scn news india

सुनील यादव कटनी 

कटनी महिला सशक्तीकरण की दिशा में काम कर रहा कटनी शहर की सक्रिय सामाजिक संगठन मुस्कान डी्म्स फाउंडेशन के सौजन्य से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नारी शक्ति सम्मान समारोह 2022 का आयोजन किया गया। श्री हास्पिटल के ओडीटोरियम सभागृह में आयोजित कार्यकम में मुस्कान डी्म्स फाउंडेशन की संस्थापिका समाज सेवी अधिवक्ता मंजूषा गौतम ने बताया कि यह आयोजन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 51 नारी शक्तियों का सम्मान में आयोजित गया। जिसमें समाज में अलग -अलग क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य कर रही 51 महिला शक्तियों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कटनी एस.डी.एम प्रिया चन्द्रावत, एस.डी.एम अंजली, एस.पी.आफिस से विमला गर्ग, महिला पुलिस कर्मी प्रभारी मंजू शर्मा,कटनी जेल अधीक्षक लीना कोष्टा,यूथ कटनी की संस्थापिका अनु श्रीवास्तव, नहेरु युवा केंद्र की अध्यक्ष कृतिका, सामाजिक न्याय विभाग की प्रीति, भाजपा जिला उपाध्यक्ष गीता गुप्ता, समाज सेवी भारती नागवानी को संस्था की संस्थापिका मंजूषा गौतम के द्वारा पुष्पहार पहनाकर और मोमेंट्स देकर स्वागत वंदन करते हुए सम्मानित किया गया।

 

जिसके बाद सभी मुख्य अतिथियों के द्वारा 51 नारी शक्तियों को स्व.लक्ष्मी तिवारी की स्मृति में सभी को मुस्कान डी्म्स फाउंडेशन के द्वारा प्रमाण-पत्र और मेमेंटो देकर सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वाली महिला सशक्तियों में श्रीमती नीलम पांडे, श्रीमती मधु दिवेदी, श्रीमती रेखा मिश्र,श्रीमती संतोष तिवारी,रियंका तिवारी, सुधा बर्मन, आशा नायर, किरन पूर्वया, राज श्री रैकवार, अनिता कोले, अमिता श्रीवास्तव, प्रमिला कुक, नीता सिंह, सीता बाई सहित अन्य का सम्मान किया गया। मुस्कान डी्म्स फाउंडेशन की संस्थापक और अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय और राजकीय और जिला स्तर पर जिला प्रशासन से सम्मानित अंलकृत अधिवक्ता समाज सेवी मंजूषा गौतम ने कहा कि महिलाएं आज पुरुषों के वर्चस्व वाले क्षेत्रो में कदम से कदम मिलाकर चल कार्य कर रही हैं। उन्हें आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता है। बस उनके हौंसलों को पंख देने की जरूरत है। और इसी उद्देश्य से मुस्कान डी्म्स फाउंडेशन ने नारी शक्ति सम्मान का आयोजन किया। उन्होंने कहा कि महिलाएं अब हर क्षेत्रों में अपना नाम रोशन कर रही हैं। आज के समय में महिलाएं किसी भी पैमाने में पुरुषों से कम नहीं है। आदि काल से महिलाएं सशक्त रही हैं। यही वजह है कि देश की आधी आबादी साहित्यिक, सामाजिक,राजनीतिक, शिक्षा, व्यवसाय आदि क्षेत्रों में स्थापित कर चुकी हैं। मंजूषा गौतम ने कहा कि अलग अलग क्षैत्रों में काम करने वाली महिलाएं अपने दम पर समाज में फैली कुरीतियों को मिटाकर पुरुषों के साथ कदम मिलाकर इतिहास रच रही है। वे आगे बढ़ रही हैं।और अपनी उपलब्धियों से देश का गौरव बढ़ा रही हैं। नारी सशक्तिकरण के बिना देश का सम्पूर्ण विकास अधूरा है। यह जरूरी है कि हम स्वंय को और अपनी शक्तियों को समझे। समाज सेवी मंजूषा गौतम ने कहा कि अब जरूरत है महिलाओं को सशक्त बनाने की अब हर किसी को जगाना होगा। स्त्रियों को खुद आगे बढ़ना होगा और एक दूसरे को सहयोग करना होगा तभी सशक्त समाज का निर्माण होगा ।उन्होंने महिलाओं का आव्हान करते हुए कहा कि हां गर्व है मुझे में नारी हूं। इसी के साथ ही सभी देश की महिलाओं को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं और बधाइयाँ देते हुए सभी का आभार प्रकट किया।