नाबालिग से दुष्कर्म और फिर पत्थरों से जिन्दा दफनाने की कोशिश के जघन्य अपराध में आरोपी को तिहरे उम्रकैद की सजा

Scn news india

ब्यूरो रिपोर्ट

बैतूल- सारनी थाना क्षेत्र अंतर्गत नाबालिग  बच्ची  से दुष्कर्म और फिर पत्थरों से जिन्दा दफनाने की कोशिश के जघन्य अपराध में आरोपी को  बैतूल की विशेष न्यायालय  ने पास्को एक्ट अंतर्गत  तिहरे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अभियुक्त पर धारा 376(3), 307, 5/6 पास्को एक्ट के मामला दर्ज था। न्यायाधीश ने आरोपी पर 15000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है। अभियोजन के मुताबिक आरोपी सुशील वर्मा ने 14 वर्षीय नाबालिग के साथ उस समय रेप किया था, जब वह मोटर पम्प की बटन चालू करने गई थी। जब काफी देर तक वह नहीं आई तो बडी बहन ने तलाश किया, तब वह नाले के पास मिली थी। पूछताछ में उसने बताया था कि सुशील वर्मा ने उसके साथ रेप करने के बाद पत्थर से मुंह ढक दिया और जिंदा दफनाने का प्रयास किया था। बाद में पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। पीड़िता कई दिन तक नागपुर में भी इलाजरत रही थी। इस मामले में अभियोजन की ओर से की गई बेहतर पैरवी ने आरोपी को तिहरे उम्रकैद की सजा सुनाई है।